Tuesday , June 15 2021 8:57 PM
Home / Hindi Lit / व्यंग : आदमी कब कब – पुरुष से पिता बनता है

व्यंग : आदमी कब कब – पुरुष से पिता बनता है

 

                                                                                                                                                                       प्रस्तुति – मयंक गुप्ताbinu

पत्नी जब स्वयं माँ बनने का समाचार सुनाये और वो खबर सुन, आँखों में से खुशी के आँशु टप टप गिरने लगे

तब … आदमी……

” पुरुष से पिता बनता है”

नर्स द्वारा कपडे में लिपटा कुछ पाउण्ड का दिया जीव, जवाबदारी का प्रचण्ड बोझ का अहसास कराये

तब …..आदमी…..

” पुरुष से पिता बनता है”

रात – आधी रात, जागकर पत्नी के साथ, बेबी का डायपर बदलता है, और बच्चे को कमर में उठा कर घूमता है, उसे चुप कराता है, पत्नी को कहता है तू सो जा में इसे सुला दूँगा।

तब……….आदमी……

” पुरुष से, पिता बनता हैं ”

मित्रों के साथ घूमना, पार्टी करना जब नीरस लगने लगे और पैर घर की तरफ बरबस दौड़ लगाये

तब ……..आदमी……

“पुरुष से पिता बनता हैं”

2013-04-01-superhero-theme-incredible-father-son-football1

“हमने कभी लाईन में खड़ा होना नहीं सिखा ” कह, हमेशा ब्लैक में टिकट लेने वाला, बच्चे के स्कूल Admission का फॉर्म लेने हेतु पूरी ईमानदारी से सुबह 4 बज लाईन में खड़ा होने लगे

तब …..आदमी….

” पुरुष से पिता बनता हैं ”

जिसे सुबह उठाते साक्षात कुम्भकरण की याद आती हो और वो जब रात को बार बार उठ कर ये देखने लगे की मेरा हाथ या पैर कही बच्चे के ऊपर तो नहीं आ गया एवम् सोने में  पूरी सावधानी रखने लगे

तब …..आदमी…

” पुरुष से पिता बनता हैं”

असलियत में एक ही थप्पड़ से सामने वाले को चारो खाने चित करने वाला, जब बच्चे के साथ झूठ मूठ की fighting में बच्चे की नाजुक थप्पड़ से जमीन पर गिरने लगे

तब…… आदमी……

” पुरुष से पिता बनता हैं”

खुद भले ही कम पढ़ा या अनपढ़ हो, काम से घर आकर बच्चों को ” पढ़ाई बराबर करना, होमवर्क पूरा किया या नहीं”
बड़ी ही गंभीरता से कहे

तब ….आदमी……

” पुरुष से पिता बनता हैं  ”

खुद ही की कल की मेहनत पर ऐश करने वाला, अचानक बच्चों के आने वाले कल के लिए आज comprises करने लगे

तब ….आदमी…..

” पुरुष से पिता बनता हैं ” |

About indianz xpress

Pin It on Pinterest

Share This