Saturday , January 16 2021 6:36 PM
Home / Hindi Lit / जय श्री अद‌्‌भुत चापलूस चालीसा

जय श्री अद‌्‌भुत चापलूस चालीसा

chamcha-no-1• अशोक गौतम

भक्तो! सरकारी नौकरी में रहते आज इतने अधिक खतरे बढ़ गए हैं कि अपने को तीस मार खां कहने वाले भी कुर्सी पर बैठने से पहले सौ बार भगवान का नाम लेते हैं। क्या पता कब जनता से कुछ लेते क्राइम ब्रांच वालों के हत्थे चढ़ जाएं। क्या पता कब जैसे तबादला हो जाए! क्या पता कब जैसे सस्पेंड हो जाएं। सरकारी नौकरी में रहते बुरे दिन आते देर नहीं लगती। सरकारी नौकरी में रत अपने भाइयों और बहनों के लिए इसीलिए हमने शास्त्रोक्त विधि से अपने ही देश में तैयार किया है ये अदभुत श्री अद्भुत चापलूस चालीसा यंत्र! ताकि हमारा हर भाई-बहन मजे से कुर्सी पर बैठे अपनी दोनों टांगें मेज पर रखे मजे कर सके। कोई भी बुरी ताकत उसका बाल तक बांका न कर सके। साहब तो साहब! भगवान तक उसे पूछने की हिम्मत न कर सके कि यार, दिन में ही ये क्या रात वाली लूट मार शुरू कर रखी है। दोस्तो! दुनिया में ऐसा कोई साहब को पटाने का यंत्र नहीं जैसा यह श्री अद्भुत चापलूस चालीसा यंत्र है। इस श्री अद्भुत चापलूस चालीसा यंत्र का हर शब्द जाग्रत मंत्र है। इस श्री चापलूस चालीसा यंत्र के आगे एक ऐसा लेंस लगा है जिसमें एक विशेश कोण से देखने पर यंत्र में लिखा संपूर्ण चापलूस चालीसा के हर शब्द को साफ- साफ पढ़ा जा सकता है। यह अद्भुत चापलूस चालीसा यंत्र अशुद्ध पच्चीस कैरेट गोल्ड प्लेटिड साहब मूरत के मस्तक पर लिखा गया है। यह यंत्र पसीने से खराब नहीं होता। सच कहें तो, इसे पहनकर कर्मचारी कुछ भी करे, उसे पसीना आता ही नहीं। इस यंत्र को देख दूसरों को पसीने आने लगते हैं। इसे गले में जिसने- जिसने डाला आइए अब जानते हैं उन्हीं की जुबानी इस श्री अद्भुुत चापलूस चालीसा यंत्र की रहस्यमयी कहानी –
मिस्टर भटनागर- इस यंत्र को जबसे मैंने गले में डाला है, साहब मेरे वश में हो गए हैं। जब तक यह चमत्कारी यंत्र मेरे गले में नहीं था , साहब मेरी ओर देखते भी नहीं थे। साहब सामने आते थे तो मेरे पसीने निकलने शुरू हो जाते थे। मैं थक जाता था उनके – आगे पीछे दुम हिलाता हुआ पर वे मुझ कुत्ते की ओर ध्यान तक न देते थे। । सच कहूं, जबसे मैंने यह अद्भुत श्री चापलूस चालीसा यंत्र गले में डाला है , इस यंत्र की कृपा से मैं उनकी बीवी से भी अधिक उनके नजदीक हो गया हूं। अब मैं नहीं , वे मेरे आगे- पीछे दुम हिलाते हैं। वे मुझसे अपनी बीवी से भी अधिक प्यार करते हैं। जय श्री अद्भुत चापलूस चालीसा यंत्र!
मिस्टर गुप्ता- जब मेरे दोस्त ने मुझे इस चापलूस यंत्र के बारे में बाताया तो मुझे जैसे जीने की नई राह मिली। पहले तो मुझे विश्वास ही नहीं हुआ कि अपने देश में भी ऐसे उच्च कोटि के चापलूस चालीसा यंत्र बन सकते हैं। सच कहूं, मेरे ऊपर रिश्वत लेते हुए हर समय सस्पेंड होने का खतरा मंडराता रहता था। अब पुरानी लत्त होने के कारण छोड़ी भी नहीं जा रही थी। दुविधा में था कि अब क्या करूं, क्या न करूं? आखिर मेरी परेशानी को देख मेरे दोस्त ने मेरे गले में अपना श्री अद्भुत चापलूस चालीसा यंत्र डाला तो पहनते ही मेरे मन से रिश्वत लेने का डर एकदम अधिकार में बदल गया।
मुझे ऐसा लगा कि रिश्वत लेना भ्रष्टता नहीं, ये तो मेरा जन्म सिद्ध अधिकार है। और मैंने यह अद्भुत श्री चापलूस चालीसा यंत्र तुरंत मंगवा अपने गले में डाल लिया। सच कहूं, जबसे मैंने इस श्री अद्भुत चापलूस चालीसा यंत्र को गले में डाला है तबसे मेरे रिश्वत लेने के हौसले में सौ गुणा इजाफा हुआ है। अब मुझे मोदी जी से कतई डर नहीं लगता। अब ऑफिस में लोग मुझे देवू नहीं रिश्वत का देवेंद्र कहने लगे हैं।
जय अद्भुत श्री चापलूस चालीसा यंत्र!
भाइयो। इस देश में इनकी ही तरह लाखों ऐसे कर्मचारी हैं जो इस यंत्र को गले में डाल नौकरी में मजे कर रहे हैं। हम्माम में नंगे नहा रहे हैं, भूख न होने के बाद भी बस खाए जा रहे हैं। अगर आप भी चाहते हैं कि ऑफिस में कदम फूंक- फूंक कर रखने से मुक्ति मिले तो आज ही हमारे इस श्री अदभुत चापलूस चालीसा यंत्र को मंगवाइए। कीमत केवल पांच हजार रूपए। डाक खर्च दो सौ रूपए अलग। और हां! अगर आप अभी आर्डर करते हैं तो अद्भुत श्री चापलूस चालीसा यंत्र के साथ तीस कैरेट गोल्ड प्लेटिड चेन फ्री। बंधुओ! हम अपने श्री अद्भुत चापलूस चालीसा यंत्र का किसी अखबार में कोई विज्ञापन नहीं देते। नकली चापलूस चालीसा यंत्रों से सावधान रहें। आपकी सुविधा के लिए हमने नकली यंत्र से बचने के लिए डिब्बे पर आपके ही शहर के लोकप्रिय भ्रष्ट की तस्वीर बनाई है जो आंखें बंद कर भी बिलकुल साफ दिखती है। तो देर किस बात की! अभी आर्डर कीजिए और……
जय श्री अद्भुत चापलूस चालीसा यंत्र!

About indianz xpress

Pin It on Pinterest

Share This