Monday , March 4 2024 7:49 AM
Home / Lifestyle / ब्रेकअप के बाद लड़कों के पास चुनने को रह जाते हैं सिर्फ दो ही रास्ते, आप कौन सा रास्ता चुनेंगे?

ब्रेकअप के बाद लड़कों के पास चुनने को रह जाते हैं सिर्फ दो ही रास्ते, आप कौन सा रास्ता चुनेंगे?


दिल टूटने का दर्द ऐसा होता है, जो पूरी जिंदगी को इस कदर प्रभावित करता है कि व्यक्ति पहले जैसा नहीं रह जाता। बात अगर लड़कों की हो, तो ब्रेकअप से गुजरने के बाद उनके पास चुनने के लिए सिर्फ दो ही रास्ते रह जाते हैं। और इनमें से वो जिसको चुनते हैं, वो ही ये डिसाइड करता है कि उनकी आगे की जिंदगी स्वर्ग बनेगी या फिर नरक।
ब्रेकअप जब होता है, तो प्यार करने वाला शख्स बुरी तरह से टूट जाता है। जिस रिश्ते में उसने अपनी भावनाएं, समय और जिंदगी के हर हिस्से को जोड़ा था, वो पूरी तरह से दूर हो जाता है। ये लाइफ में ऐसा खालीपन ले आता है, जो अपने अंदर खींच ले, तो उससे उबर पाना बड़ी चुनौती बन जाता है। लड़कों के लिए ये खासतौर पर इसलिए भी मुश्किल हो जाता है, क्योंकि वो अपनी फीलिंग्स को खुलकर जाहिर नहीं कर पाते हैं। उनसे कभी भी ये उम्मीद नहीं की जाती कि वो टूटकर बिखरने के बावजूद अपनी फीलिंग्स को दुनिया के सामने रखें।
ये हैं दो रास्ते – बिटर या बेटर, ये ही वो दो रास्ते हैं, जिनमें से किसी एक को चुनना सुनिश्चित कर देता है कि ब्रेकअप के बाद लड़के की जिंदगी कैसी होने वाली है। आपको बता दें कि अंग्रेजी के शब्द बिटर का मतलब कड़वाहट है, वहीं बेटर का अर्थ बेहतर है।
पहला रास्ता – पहला रास्ता तो ये है कि ब्रेकअप से जो नकारात्मक भावनाएं उपजीं, उन्हें अपने ऊपर इतना हावी हो जाने दें कि वो आपके अंदर की सकारात्मकता को खत्म कर दे। ऐसा जब होता है, तो दिल और दिमाग में नफरत पैदा होने लगती है। सभी भावनाओं से बिटरनेस यानी कड़वाहट जुड़ जाती है।
ये चीज व्यक्ति के जीवन को ऐसे अंधकार में ले जाती है, जहां से उसको वापस लौटकर आने में महीनों, सालों या फिर पूरी जिंदगी तक लग सकती है।
दूसरा रास्ता – दूसरा रास्ता है बेटर यानी बेहतर बनने का। जो हुआ सो हुआ। उसे पास्ट का हिस्सा मानें और अपने प्रेजेंट-फ्यूचर पर इसका असर न पड़ने दें। अपने लक्ष्य पर ध्यान केंद्रित करें और करियर में सफलता हासिल करते जाएं। सकारात्मक सोच और पास्ट को पीछे ही छोड़कर जब चलेंगे, तो जिंदगी फिर से खुशियों की ओर लौट आएगी।
तो आप कौन सा रास्ता चुनेंगे?- इस बात में कोई दो राय ही नहीं कि दिल टूट जाने के बाद दिमाग सबसे पहले नकारात्मकता की ओर ही जाता है। लेकिन ये आप पर निर्भर करता है कि आप अपनी जिंदगी को कौन सी राह पर ले जाना चाहते हैं। तो आपका क्या फैसला है? आप खुद को नफरत, कड़वाहट और असफलता से जोड़ना चाहेंगे या फिर मूव ऑन करते हुए सफलता और खुशियों की ओर लौटना चाहेंगे?