Saturday , September 19 2020 3:21 AM
Home / Hindi Lit

Hindi Lit

गांधी के राम

  कुछ दिनों पहले मेरे एक मित्र ने मुझसे कहा, “वो तो अच्छा हुआ कि गोडसे ने गांधी को मार दिया, अगर गांधी आज ज़िंदा होता तो मैं मार देता।”   आज के परिप्रेक्ष्य में इस बात के समर्थन में कुछ पाठक भी होंगे, लेकिन सिर्फ समर्थन के लिए ही यह बात लेख …

Read More »

माथे की रेखा से जाना जिंदगी के 40 दिन हैं शेष, मृत्यु से पहले किया ये काम

दोष सिद्धि के लिए मजबूत इच्छाशक्ति जरूरी एक व्यक्ति चाहकर भी अपने दुर्गुणों पर काबू नहीं कर पा रहा था। एक बार उसके गांव में एक संत आए। उसने उनसे अपनी परेशानी बताई। संत ने कहा, ‘‘दृढ़ संकल्प से ही दुर्गुण छूटते हैं। यदि तुम इच्छाशक्ति मजबूत कर लोगे तो …

Read More »

प्रेरणात्मक कहानी: इस सीख को अपनाएंगे तो गूंजने लगेगा जयकार नाद

भावनगर के राजा एक बार गर्मियों के दिनों में अपने आम के बागों में आराम कर रहे थे। वह बहुत ही खुश थे कि उनके बागों में बहुत अच्छे आम लगे थे और ऐसे में वह अपने ख्यालों में खोए हुए थे। तब वहां से गरीब किसान गुजर रहा था …

Read More »

ऐसी अजीबोगरीब PHOTOS जो सोशल साइट्स पर खूब हो रही VIRAL

नई दिल्ली: सोशल साइट्स पर हर रोज लोग कई फनी फोटोज पोस्ट करते हैं जिसे देख हम अपनी हंसी पर काबू नहीं पा सकते । एेसी ही कुछ फोटोज आजकल सोशल साइट्स पर खूब वायरल हो रही हैं । इनको टाइटल दिया गया है- इंटरनेट पर पाए गए सबसे अजीबोगरीब …

Read More »

दुनिया को बदलने का इरादा रखने वाले अवश्य पढ़ें यह प्रेरणात्मक कहानी

अपटॉन सिंक्लेयर का जन्म बेहद गरीब परिवार में हुआ था। उन्होंने विपरीत परिस्थितियों में हिम्मत न हारते हुए अपनी लेखन की रुचि को जीवित रखा। वह इतने गरीब थे कि कई बार उनके पास घर का किराया चुकाने तक के पैसे नहीं होते थे। अक्सर परिवार को भूखा ही सो …

Read More »

कमाई का Use करने से पहले ध्यान रखें, रूकेगा धन और तिजोरी में टिकने लगेगा

एक व्यक्ति के पास पुश्तैनी बहुत सारा धन था। इस पर भी उसे संतोष नहीं था। किसी गरीब या जरूरतमंद की मदद करना तो दूर स्वयं भी ठीक से खाता-पीता नहीं था। पत्नी ने उसे कई बार समझाया भी कि पैसा जोडऩे की बजाय अपने स्वास्थ्य पर भी ध्यान दो। …

Read More »

हनुमान जी की मां से हुई भूल , बन गई अप्सरा से वानरी

एक बार देवराज इंद्र की सभा स्वर्ग में लगी हुई थी। इसमें दुर्वासा ऋषि भी भाग ले रहे थे। जिस समय सभा में विचार-विमर्श चल रहा था उसी समय सभा के मध्य ही ‘पुंजिकस्थली’ नामक इंद्रलोक की अप्सरा बार-बार इधर से उधर आ-जा रही थी। सभा के मध्य पुंजिकस्थली का …

Read More »

रावण की मृत्यु उपरांत उनके वंशज बसे थे यहां, मंदोदरी बनी विभीषण पत्नी

वाल्मीकि रामायण के अनुसार मंदोदरी का विवाह दशानन रावण के साथ हुआ था। वह ऋषि कश्यप के पुत्र मायासुर की गोद ली हुई पुत्री थी। रंभा नाम की अप्सरा मंदोदरी की माता थी। मंदोदरी रामायण के पात्र, पंच-कन्याओं में से एक हैं और उन्हें चिर-कुमारी कह कर पुकारा गया है। …

Read More »

गुरू आज्ञा का पालन करने के लिए शिष्यों ने पार की विचित्र कसौटियां

ऋषि धौम्य के आश्रम में कई छात्र रहते थे। वह उन्हें पूरी तत्परता से पढ़ाते, साथ ही उनकी कड़ी परीक्षा भी लेते रहते थे। इन परीक्षाओं में अलग-अलग कसौटियां तय की जातीं और देखा जाता कि विद्यार्थी सीखी गई विद्या और गुरु के प्रति कितना निष्ठावान है। एक दिन मूसलाधार …

Read More »

Pin It on Pinterest