Saturday , July 13 2024 12:29 PM
Home / Sports / जीत के बाद मनन ने बोली मन की बात – कम टारगेट और टॉस का मिला फायदा, मनोज बोले 25 रन रहे कम

जीत के बाद मनन ने बोली मन की बात – कम टारगेट और टॉस का मिला फायदा, मनोज बोले 25 रन रहे कम

विवेक शर्मा, इंदौर से

8 अप्रैल 2017 ( इंदौर) किंग्स इलेवन पंजाब ने अपने घरेलू मैदान पर जीत के साथ शुरुआत की। मैच के बाद किंग्स इलेवन टीम के मनन वोहरा ने कहा कि  जीत के साथ शुरुआत करके काफी अच्छा लगता है। चार विकेट गिरने के बाद हम लोग थोड़ा नर्वस ज़रूर हो गए थे लेकिन इसके बाद मैक्सवेल और मिलर ने संभाल लिया। साथ ही उन्होंने कहा कि विकेट काफी अच्छा है और ग्राउंड छोटा है। हमने काफी अच्छी गेंदबाज़ी की और टारगेट थोड़ा कम था जिसका हमे फायदा मिला। मनन ने टॉस की अहमियत बताते हुए कहा कि ये मैदान छोटा है इसलिए टॉस की अहमियत बढ़ जाती है। साथ ही भाग्य ने भी हमारा साथ दिया । मनन ने जीत का श्रेय गेंदबाज और बल्लेबाजों दोनों को ही दिया। साथ ही उन्होंने कहा कि कप्तान ग्लेन मैक्सवेल अच्छे फॉर्म में चल रहे हैं और उम्मीद है वो अपना ऐसा ही खेल आगे भी जारी रखें। मनन ने बताया कि “मैं इस टीम के साथ पिछले 5 वर्षों से हूं।जितने भी कप्तान आए उन्होंने काफी सपोर्ट किया । पहले गिलक्रिस्ट थे, फिर बैली आए और अब मैक्सवेल आए हैं। तीनों ने ही काफी सपोर्ट किया है युवा भारतीय खिलाड़ियों का। किंग्स इलेवन पंजाब के मेंटर वीरेन्द्र सहवाग की भूमिका पर वोहरा ने कहा कि वीरेन्द्र सहवाग की मौजूदगी से काफी प्रेरणा मिलती है। उन्होंने हमेशा से ही कहा है कि उन्मुक्त क्रिकेट खेलो, खुद पर भरोसा रखो, रन अपने आप ही बल्ले से निकलेंगे।

वहीं पुणे टीम के मनोज तिवारी ने कहा कि “हमारी टीम ने 22 से 25 रन कम बनाए। और यही टीम का टर्निंग पाइंट साबित हुआ। दूसरी पारी में बल्लेबाजी करते हुए पिच काफी आसान लग रहा था लेकिन पहली पारी में पिच में थोड़ी नमी थी जिसकी वजह से गेंदबाजों को फायदा मिला।“ मनोज तिवारी ने ये भी कहा कि “ किंग्स इलेवन के पास स्विंग गेंदबाज़ हैं, और संदीप और मोहित शर्मा ने उनकी टीम को बेहतरीन शुरुआत दी। हमने पहले ही ओवर में विकेट गंवा दिया जिससे टीम लड़खड़ा गई।“  मनोज ने अपनी टीम के कॉम्बिनेशन का बचाव करते हुए कहा कि टीम में कौन कौन खेलेगा ये टीम मैनेजमेंट का फैसला होता है। अगर हम थोड़ा और ज़ोर लगाते तो और रन बनते । लेकिन ये टी20 क्रिकेट है और इसका फॉर्मेट कुछ इसी तरह का है। मनोज ने ये भी माना कि पहले ओवर में विकेट गिरने से अगला बल्लेबाज़ जमने में थोड़ा वक्त लेता है। साथ ही पार्टनरशिप के बारे में उन्होंने कहा कि अगर थोड़ी और साझेदारियां होतीं तो स्कोर 180 तक पहुंच जाता। मनोज तिवारी ने टॉस को भी अहम बताते हुए कहा कि टॉस की भूमिका 10 से 15 फीसदी होती है। साथ ही उन्होंने यह भी माना कि अगर उनकी टीम टॉस जीतती तो पहले गेंदबाजी का ही फैसला करती। मनोज ने इस बात को भी साफ कर दिया कि ”महेन्द्र सिंह धोनी कप्तानी नहीं कर रहे थे वो सिर्फ टीम को गाईड कर रहे थे। चूंकि विकेट कीपर होने के नाते उन्हें पूरा ग्राऊंड अच्छी तरह से दिखता है तो वो ये बताने में समर्थ थे कि किस फिल्डर को कौन से एंगल पर खड़े रहना चाहिए।“