Saturday , March 2 2024 11:51 AM
Home / Lifestyle / रिश्ते-नातेदार से पहले काम आता है पड़ोसी, बनाए अच्छे सम्बन्ध

रिश्ते-नातेदार से पहले काम आता है पड़ोसी, बनाए अच्छे सम्बन्ध

भाग-दौड़ भरी और मोबाइल रूप में बदल चुकी जिन्दगी में अब रिश्तेदार-नातेदार किसी की कोई अहमियत नहीं रह गई है। हर व्यक्ति अपने आप में सिमटा हुआ है। इसके बावजूद लोगों का कहना है कि सगे सम्बन्धियों के साथ रिश्ते अच्छे हो या न हों लेकिन अपने पड़ोसी के साथ हमेशा अच्छा सम्बन्ध बनाकर रखें। एक पड़ोस ही ऐसा होता है जो घर में सबसे पहले आता है। सुख-दुख में वही एक मात्र ऐसा घर होता है जहाँ सबसे पहले आशा की ज्योति जाती है।
कभी कोई मुसीबत आती है तो रिश्तेदार बाद में आते हैं लेकिन सबसे पहले आपकी मदद करने पड़ोसी ही आते हैं। घर के आसपास का माहौल अच्छा व शांत बनाये रखने के लिए भी पड़ोसियों के साथ हमारा आपसी तालमेल होना चाहिए। सुख हो या दुख सबसे पहला साथ पड़ोसी का ही होता है। आज हम आपको कुछ ऐसी बातों की जानकारी देने जा रहे हैं जिनकी सहायता से आप अपने पड़ोसी के साथ सम्बन्धों को मधुर बनाकर रख सकते हैं। आइए डालते हैं एक नजर—
सुबह पहली बार मिलते ही बोले राम-राम सा – आम तौर पर हर व्यक्ति सुबह उठते ही सबसे पहले अपने नित्य कार्यों से मुक्त होकर मार्निंग वॉक को निकलता है। अक्सर रास्ते में पड़ोसियों से मुलाकात हो जाती है। ऐसे में जैसे ही आपको अपना कोई पड़ोसी दिखाई दे आप उससे सबसे पहले राम-राम बोलें और फिर मुस्करा कर उससे कुछ बात करें। हो सकता है आपका पड़ोसी आपके धर्म या समाज का न हो, सभी धर्मों में पड़ोसियों के साथ अच्छा व्यवहार करने के बारें में कहा गया है। इससे आपकी पड़ोसियों के साथ दोस्ती बनी रहेगी। हो सके तो अपने पड़ोसियों को कभी चाय-नाश्ते के लिए आमंत्रित करें। ऐसा भी हो सकता है आपका पड़ोसी आर्थिक दृष्टिकोण से आपके बराबर का न हो तो उसे इस बात का अहसास नहीं होगा कि आप उससे अच्छा व्यवहार उसकी गरीबी की वजह से कर रहे हैं।
अपने पड़ोसी को जानें – यदि आप किसी एक जगह से शिफ्ट होकर दूसरे स्थान पर आए हैं या कोई अन्य आपके पड़ोस में रहने के लिए आया है तो आप जल्द से जल्द उससे जान-पहचान करें। कोई नया आपके पास में रहने आया है तो उनसे तुरन्त मिलें और अपना परिचय देने के बाद उनसे कहें कि यदि कोई आवश्यकता हो तो बेहिचक आपको याद करें। आप उन्हें चाय-नाश्ते के लिए आमंत्रित करें, क्यों नये होने के कारण वे उस स्थान से अपरिचित होंगे। इसके साथ हो सके तो उन्हें आप अपने अन्य पड़ोसियों से मिलवाएँ, जिससे उन्हें नयापन और अकेलापन न लगे।
बुराई से बचें – कुछ लोग पड़ोसी से उनकी पर्सनल बातें पता कर लेते हैं और फिर दूसरे पड़ोसियों को बताते हैं, चुगली करते हैं, बुराई करते हैं। ऐसी गलती कभी न करें। किसी ने आप पर भरोसा कर के आपको अपने इतने करीब आने दिया है, उसका फायदा उठाकर उन्हें बदनाम न करें। इधर की बात उधर करने के स्वभाव के कारण कोई भी पड़ोसी आप पर भरोसा नहीं करेगा और ऐसा न हो कि वे इतना नाराज हो जाएं कि मुसीबत में भी आपकी मदद न करें। पड़़ोसी की बुराई करने से आपकी इमेज भी सब जगह खराब होती है।
त्योहारों पर गिफ्ट दें – त्योहारों पर हम सबको विश करते हुए मैसेज भेजते हैं। कई मौकों पर हम लोगों को गिफ्ट भी देते हैं लेकिन ऐसे मौकों पर पड़ोसियों को इग्नोर कर देते हैं। आपका पड़ोसी चाहे किसी भी धर्म का हो, आप हमेशा हर एक त्योहार में अपने पड़ोसी को विश करने जरूर जाएं। जहां जरूरत हो उन्हें गिफ्ट भी दें। इससे आपका रिश्ता मजबूत होगा।
आवश्यकतानुसार पड़ोसियों की मदद करें – यदि आपके पड़ोस में कोई गरीब परिवार है, जिसकी आर्थिक स्थिति सुदृढ़ नहीं है तो आप पड़ोसी का फर्ज निभाते हुए उनकी मदद कर सकते हैं। अगर आपकी कमाई अच्छी है तो यह एक प्रकार आपका नैतिक कर्तव्य हो जाता है कि आप अपने से कमतर परिवार की कुछ मदद करें। यह मदद आप उन्हें नगद रुपये देकर नहीं अपितु उनके बच्चों के शिक्षा सम्बन्धी खर्चों में कुछ मदद करके कर सकते हैं। यदि उनको खाने पीने की परेशानी है तो इसमें भी आप उनको मदद कर सकते हैं। हर धर्म यही कहता है कि अपने सगे-सम्बन्धियों से पहले अपने पड़ोसी की मदद करो।
समारोह में शामिल करें – शादी, जन्मदिन, सालगिरह या कोई अन्य समारोह होने पर अक्सर हम अपने पड़ोसियों को बताना पसंद नहीं करते हैं। हमें लगता है की वह लोग केवल चीजों की बुराई करेंगे। घर में कोई अच्छा काम होने पर अपने पड़ोसियों को जरूर बताएं। उनसे कार्यक्रम में शामिल होने का आग्रह करें। इससे आपके रिश्ते उनके साथ बेहतर हो जाएंगे।