Monday , March 4 2024 7:07 AM
Home / News / पाकिस्तान की सियासत बनी शतरंज,नवाज की पार्टी PML-N ने सरकार बनाने के लिए बदल रहे “मोहरे”

पाकिस्तान की सियासत बनी शतरंज,नवाज की पार्टी PML-N ने सरकार बनाने के लिए बदल रहे “मोहरे”


पाकिस्तान में सत्ता के लिए घमासान तेज हो गया है। चुनाव नतीजों के बाद लगता है देश की सियासत शतरंज बन गई है और हर राजनीतिक दल अपनी सरकार बनाने के लिए मोहरे बदल रहे हैं यानि जोड़-तोड़ कर किसी भी तरह प्रधानमंत्री की कुर्सी पर कब्जे का प्रयास कर रहे हैं। तीन बार प्रधानमंत्री रहे नवाज शरीफ के नेतृत्व वाली पाकिस्तान मुस्लिम लीग (नवाज) ने आठ फरवरी को हुए आम चुनाव में खंडित जनादेश के बाद गतिरोध समाप्त करने के लिए प्रतिद्वंद्वी दलों के समक्ष ‘‘भागीदारी वाली गठबंधन सरकार” का विचार पेश किया है।
सोमवार को मीडिया रिपोर्टों के 266 सदस्यीय नेशनल असेंबली में पीएमएल-एन के पास 75 सीटें हैं जो सबसे बड़ी पार्टी बनकर उभरी है। जेल में बंद पूर्व प्रधानमंत्री इमरान खान की पाकिस्तान तहरीक-ए-इंसाफ (PTI) पार्टी ने अधिकतर निर्दलीय सदस्यों को समर्थन दिया है, जिन्होंने 101 सीटें हासिल की हैं। पूर्व कानून मंत्री आजम नजीर तरार ने कहा कि किसी भी राजनीतिक दल ने नेशनल असेंबली में बहुमत हासिल नहीं किया है। उन्होंने जोर देकर कहा कि चुनाव ‘‘निष्पक्ष” थे। पीएमएल-एन के वरिष्ठ नेता ने भविष्य की कार्रवाई के संबंध में विचार-विमर्श को लेकर लाहौर के जाति उमरा में पार्टी के शीर्ष नेताओं की एक बैठक के बाद मीडियाकर्मियों से कहा कि पीएमएल-एन ने केंद्र में संघीय सरकार बनाने के लिए अपने पूर्व सहयोगियों के साथ परामर्श शुरू कर दिया है।
उन्होंने कहा, ‘‘केवल पीएमएल-एन के समर्थन से (संघीय) सरकार बनाने की संभावना है। यह एक भागीदारी वाली गठबंधन सरकार होगी।” ‘ डॉन’ अखबार की रिपोर्ट के अनुसार, उन्होंने कहा कि यह देश के सबसे अधिक हित में है कि सभी को संघीय सरकार बनाने के लिए हाथ मिलाना चाहिए। ‘एक्सप्रेस ट्रिब्यून’ अखबार की खबर के मुताबिक, पीएमएल-एन के सूत्रों ने बताया कि प्रारंभिक फॉर्मूले के अनुसार अगर गठबंधन दल पीएमएल-एन को प्रधानमंत्री का पद देने पर सहमत होते हैं तो अध्यक्ष और स्पीकर का पद पाकिस्तान पीपुल्स पार्टी (पीपीपी) को दिया जाएगा। इसी तरह डिप्टी स्पीकर का पद मुत्ताहिदा कौमी मूवमेंट-पाकिस्तान (एमक्यूएम-पी) या गठबंधन में शामिल होने वाले किसी निर्दलीय सदस्य को दिया जा सकता है।
इसके अलावा पीएमएल-एन वित्त मंत्रालय अपने पास रख सकती है और अन्य मंत्रालयों को आपसी परामर्श से सहयोगियों के बीच वितरित किया जाएगा। संख्या बल के आधार पर पीएमएल-एन और पीपीपी दोनों केंद्र में गठबंधन सरकार बनाने की स्थिति में हैं। हालांकि, पीएमएल-एन सुप्रीमो नवाज शरीफ ने घोषणा की कि पीटीआई को छोड़कर सभी पार्टियों को आगामी गठबंधन में हाथ मिलाना चाहिए। पाकिस्तान निर्वाचन आयोग (ईसीपी) द्वारा रविवार तक घोषित परिणामों के अनुसार कुल 265 नेशनल असेंबली सीटों में से पीटीआई समर्थित निर्दलीय उम्मीदवारों ने 101 सीटें हासिल कीं। इसके बाद पीएमएल-एन को 75, पीपीपी को 54, एमक्यूएम को 17 और अन्य छोटी पार्टियों ने 17 सीटें जीतीं।