Tuesday , August 9 2022 12:51 PM
Home / News / चीनी मिसाइलों की बारिश के बीच राष्ट्रपति त्साई इंग ने ड्रैगन को ललकारा

चीनी मिसाइलों की बारिश के बीच राष्ट्रपति त्साई इंग ने ड्रैगन को ललकारा

पूरी दुनिया की निगाहें इस वक्त पूर्वी एशिया पर टिकी हुई हैं। एक ओर चीन है जो ताइवान की घेराबंदी करके सैन्य अभ्यास कर रहा है तो दूसरी ओर बेखौफ ताइवान है जो ड्रैगन को ललकार रहा है। ताइवान की राष्ट्रपति त्साई इंग वेन ने कहा है कि उनका देश विवाद को भड़काएगा नहीं लेकिन दृढ़ता से अपनी संप्रभुता और राष्ट्रीय सुरक्षा की रक्षा करेगा। द्वीपीय देश के चारों ओर चीन के सैन्य अभ्यासों के जवाब में उन्होंने यह बयान दिया है। रविवार तक चलने वाला अभ्यास गुरुवार को शुरू हुआ जिसमें चीन ने बैलिस्टिक मिसाइलें दागीं और युद्धपोत व लड़ाकू विमान तैनात किए। मंगलवार को अमेरिकी संसद की स्पीकर नैंसी पेलोसी की ताइवान यात्रा के खिलाफ चीन ने ये अभ्यास शुरू किए हैं।
त्साई ने अंतरराष्ट्रीय समुदाय से साथ मिलकर एकतरफा और बेमतलब की सैन्य कार्रवाई को रोकने का आग्रह किया। पेलोसी ताइवान की यात्रा करने वाली कई वर्षों में सबसे उच्च अमेरिकी अधिकारी हैं। द्वीप पर अपना दावा करने वाले बीजिंग ने उन्हें यात्रा से पहले कई धमकियां दी थीं लेकिन मंगलवार शाम को पेलोसी ताइपे पहुंच गईं। बुधवार को उन्होंने त्साई से मुलाकात की और संसद का दौरा किया। इसके बाद वह दक्षिण कोरिया के लिए रवाना हो गईं। इसके विरोध में गुरुवार को चीन ने ताइवान के आसपास कई इलाकों में सैन्य अभ्यास की एक श्रृंखला शुरू की।
ताइवान से सिर्फ 20 किमी दूर चीन का अभ्यास : यह अभ्यास दुनिया के कुछ सबसे व्यस्त शिपिंग लेन को बाधित कर रहा है और कई जगहों पर ताइवान से सिर्फ 20 किमी दूर है। चीन की सेना ने बताया कि स्थानीय समयानुसार दोपहर 12 बजे ये अभ्यास शुरू हुए। ग्‍लोबल टाइम्‍स की मानें तो ये एक असाधारण युद्धाभ्‍यास है जिसमें पारंपरिक मिसाइलें पहली बार ताइवान के ऊपर से गुजरेंगी। साथ ही पीएलए की सेनाएं ताइवान की समुद्री सीमा में 12 नॉटिकल मील यानी 22 किलोमीटर अंदर तक दाखिल होंगी।
जापान में गिरीं चीन की मिसाइलें : ताइवान ने कहा कि चीन की सेना ने ‘कई बैच में’ 11 Dongfeng-class बैलिस्टिक मिसाइलें दागीं और अभ्यास की ‘क्षेत्रीय शांति को कमजोर करने वाली तर्कहीन कार्रवाई’ के रूप में निंदा की। ताइवान ने यह नहीं बताया कि मिसाइलें किस स्थान पर गिरीं या उन्होंने द्वीप के ऊपर से उड़ान भरी। गुरुवार को जापान की सरकार ने कहा कि पांच बैलिस्टिक मिसाइलें जापान के एक्सक्लूसिव इकोनॉमिक जोन (EEZ) में गिरी हैं जिन्हें चीन की सेना की तरफ से लॉन्च किया गया था। जापान ने इस कदम की निंदा की है।

About indianz xpress

Pin It on Pinterest

Share This