Saturday , April 20 2024 8:01 PM
Home / Lifestyle / शास्‍त्र कहते हैं हर बच्‍चे में होने चाहिए ये गुण, फिर पढ़ाई में पक्‍का आएंगे अव्‍वल

शास्‍त्र कहते हैं हर बच्‍चे में होने चाहिए ये गुण, फिर पढ़ाई में पक्‍का आएंगे अव्‍वल

छात्रों के लिए अच्‍छे से पढ़ाई करना और अच्‍छे नंबर लेकर आना ही जरूरी नहीं होता है बल्कि उनके लिए यह ज्‍यादा महत्‍वपूर्ण होता है कि वो अपने रोजमर्रा के कामों में कितने अनुशासित हैं। छात्रों को अपने आसपास मौजूद हर चीज से ज्ञान लेना होता है। उसके लिए सीखने का जरिया सिर्फ किताबें नहीं होनी चाहिए बल्कि उसे इस दुनिया की हर चीज से कुछ न कुछ सीखना चाहिए।
बच्‍चों को पढ़ाई में सफलता पाने के साथ-साथ निजी जीवन में भी विकास करना चाहिए। छात्रों में सही गुणों को लेकर संस्‍कृत शास्‍त्र में इसकी व्‍याख्‍या की गई है। इस आर्टिकल में हम आपको बताएंगे कि संस्‍कृत शास्‍त्र के अनुसार छात्रों में क्‍या गुण और विशेषताएं होनी चाहिए।
श्‍लोक समझें – काक चेष्टा, बको ध्यानं, स्वान निद्रा तथैव च। अल्पधार्मिक, गृहत्यागी, मित्र पंच लक्षणं॥ संस्कृत श्लोक का अनुवाद इस प्रकार है: “कौवे का प्रयास, बगुले का ध्यान, कुत्ते की नींद, और इसी तरह थोड़ा खाना, घर छोड़ देना, ये एक छात्र के पांच गुण हैं।” यह जानवरों के समान गुणों पर प्रकाश डालता है जिसमें कौवे की दृढ़ता, बगुले की चौकसता और कुत्ते की केवल आवश्यक होने पर आराम करने की क्षमता पर ध्‍यान दिया गया है।
क्‍या करना है छात्रों को – एक छात्र को अपनी पढ़ाई में लगातार लगे रहना, सीखने के प्रति चौकस रहना और यह जानना चाहिए कि कब आराम करना है। इसके अलावा, उन्हें कम खर्चा करना चाहिए और शिक्षा के लिए घर का आराम छोड़ने के लिए तैयार रहना चाहिए। ये गुण बच्‍चों को पढ़ाई में सफल और आत्म-सुधार के लिए प्रयास करने के लिए प्रेरित करते हैं।
छात्र को कौवे की तरह दृढ़ रहना चाहिए – सफल होने के लिए छात्रों का दृढ़ होना आवश्‍यक है। यह बाधाओं पर काबू पाने और लक्ष्यों को प्राप्त करने के लिए प्रेरक शक्ति के रूप में कार्य करती है। कौआ जो करना चाहता है उससे कभी विचलित नहीं होता। वे लगातार भोजन की तलाश में लगा रहता है जिसके लिए अक्सर बार-बार प्रयास और समस्या को सुलझाने के कौशल की आवश्यकता होती है। पढ़ाई में आने वाली चुनौतियों के सामने, दृढ़ता लचीलेपन को बढ़ावा देती है, जिससे छात्रों को असफलताओं के बावजूद दृढ़ रहने में मदद मिलती है।
कुत्ते जैसी चौकन्नी नींद लें – छात्रों के लिए पर्याप्‍त नींद लेना आवश्‍यक है क्योंकि यह सीधे उनके शारीरिक स्वास्थ्य, मानसिक स्‍वास्‍थ्‍य और शैक्षणिक प्रदर्शन पर प्रभाव डालता है। पर्याप्त नींद से याद्दाश्‍त तेज होती है, समस्या को सुलझाने और रचनात्मकता जैसे संज्ञानात्मक कार्यों को करने के स्किल्‍स बढ़ते हैं।