Sunday , June 23 2024 10:27 PM
Home / Lifestyle / सर्दियों में क्यों पड़ जाते हैं हाथ-पैर सुन्न, कैसे रखें बचाव?

सर्दियों में क्यों पड़ जाते हैं हाथ-पैर सुन्न, कैसे रखें बचाव?


सर्दियों के मौसम में साइनस, अस्थमा और सर्दी-खांसी, जुकाम के अलावा हाथ-पैर की सुन्न होने की समस्या भी आम है। इसके कारण प्रभावित जगह पर कभी-कभी दर्द, झनझनाहट, कमजोरी और ऐंठन महसूस होती है, जिसके कारण रूटीन का काम करना भी मुश्किल हो जाता है। यही नहीं, इसके कारण शरीर में रक्त संचार सही नहीं हो पाता, जिससे कई बीमारियों का खतरा बढ़ जाता है। ऐसे में आज हम आपको बताएंगे, हाथ-पैर सुन्न होने के कारण और आप कैसे उसका इलाज कर सकते हैं…
सबसे पहले आपको बताते हैं कि सर्दियों में किन कारणों से हाथ-पैर सुन्न हो जाते हैं…
दरअसल, सर्दियों के मौसम में रक्त वाहिनियां संकुचित और ब्लड सर्कुलेशन धीमा हो जाता है। इससे शरीर के अंगों में ऑक्सीजन की अपूर्ति होने लगती है, जिसके कारण सुन्नपन महसूस होता है। साथ ही कुछ और कारण भी है जिसकी वजह से हाथ-पैर सुन्न हो जाते हैं जैसे –
. नस दबना
. शरीर में विटामिन्स व मैग्नीशियम की कमी
. कार्पेल टनेल सिंड्रोम
. तंग कपड़े पहनने के कारण
. एक ही स्थिति में ज्यादा देर बैठना

इसके अलावा हाई ब्लड प्रेशर, स्ट्रोक, रीढ़ की हड्डी या मस्तिष्क में ट्यूमर, चोट लगना, थायराइड या डायबिटीज के मरीजों में भी बार-बार यह समस्या देखने को मिलती है।
महिलाओं में ज्यादा दिखती है समस्या
पुरुषों के मुकाबले, औरतों में यह समस्या 3 गुणा ज्यादा होती है। यही नहीं, गर्भावस्था, पीरियड्स की अनियमित्ता, मेनोपोज को दौरान या बाद में यह परेशानी बढ़ जाती है।
टाइपिंग करने वालों को भी अधिक खतरा
जो लोग की-बोर्ड पर लगातार 8-9 घंटे टाइपिंग करते हैं उन्हें भी इसकी संभावना अधिक होती है। टाइपिंग के वक्त उंगलियां और कलाई ज्यादा मुड़ती हैं, जिससे हाथ और कलाई सुन्न और सूज जाती है।
चलिए अब हम आपको कुछ घरेलू नुस्खे बताते हैं जिससे आप इस समस्या से छुटकारा पा सकते हैं।
दस्ताने, मोजे और गर्म कपड़े
हाथ-पैर के सुन्न पड़ने की समस्या से बचने के लिए जरूरी है कि आप लंबे समय तक ठंड में रहने से बचें। साथ ही बाहर जाते समय शरीर को अच्छी तरह से कवर कर लें। हाथों में दस्ताने और पैरों पर गर्म जुराबें व जूते पहनें।
ठंड़े पानी से रहें दूर
इस मौसम में ठंडा पानी पीने से बचें, सिर्फ फ्रिज वाला ही नहीं बल्कि नल का ठंडा पानी भी ना पीएं। हमेशा गुनगुना पानी पीएं।

. ठंड़े पानी में ज्यादा देर तक रहने से बचें।
. बर्तन, कपड़ा धोने में वाटरपूफ दस्तानों का इस्तेमाल करें।
. नहाने में गर्म पानी का इस्तेमाल करें।

सुन्न होने पर हाथ-पैर रगड़ें
अचानक अगर हाथ व पैर सुन्न हो जाते हैं तो तुरंत रगड़कर रक्त संचार बहाल करें।

गुनगुने पानी से सिंकाई
गुनगुने पानी में नमक डालकर उसमें हाथों-पैरों को कुछ देर भिगोएं। इससे ब्लड सर्कुलेशन तेज होगा और बंद नसें खुल जाएंगी।
मसाज करें
हल्के गुनगुने नारियल या जैतून तेल से हाथों-पैरों की मसाज करें। इससे भी ब्लड सर्कुलेशन बढ़ेगा और आप गर्माहट महसूस करेंगे।

हल्‍दी
हल्दी के कुदरती एंटी ऑक्सीडेंट्स ब्लड सर्कुलेशन बढ़ाते हैं। भोजन में हल्दी का इस्तेमाल जरूर करें। साथ ही सोने से पहले 1 गिलास गर्म हल्दी वाला दूध पीने से भी आराम मिलेगा।

योग व एक्सरसाइज करें
मौसम चाहे कोई भी हो, योग व एक्सरसाइज जरूर करें। इससे शरीर में ऑक्सीजन की मात्रा बढती है और यह परेशानी धीरे-धीरे कम होने लगेगी।

दालचीनी है बेस्ट
1 चम्मच शहद के साथ दालचीनी पाउडर का सेवन करें। इसके बाद गर्म दूध पी लें। इससे भी हाथ-पैर सुन्न होने की समस्या दूर होगी। साथ ही यह जोड़ों के दर्द से भी आराम दिलाएगा।
विटामिन्स युक्त आहार
डाइट में मैग्नीशियम और विटामिन्स युक्त आहार जैसे अंडा,दूध, मीट, केला, बींस, मछली, दही, ड्राई फ्रूट्स, सब्जियां, फल लें।

हाथ-पैर ऊपर उठाएं
शरीर का जो हिस्सा सुन्न पड़ रहा है उसे लटका कर न रखें। इससे ब्लड सर्कुलेशन बहुत प्रभावित होता है। पैरों को टेबल पर रखें, लेटते समय पैरों को ऊंचे तकीए पर रखें। हाथों को बीच-बीच में ऊपर उठाते रहे।

दौड़ लगाएं
दौड़ लगाने से रक्त शरीर में अच्छे सप्लाई होता है जिससे हाथ-पैरों की सुन्न होने की समस्या से छुटकारा पाया जा सकता है।

धूम्रपान से दूरी
इसके अलावा धूम्रपान से दूरी बनाए रखें। ऐसा इसलिए क्योंकि इससे पेरिफेरल आर्टरी डिसीज होता है और पैरों में रक्त का संचार ठीक तरीके से नहीं हो पाता।