Monday , June 24 2024 12:02 AM
Home / Off- Beat / 16 साल की इस लड़की ने चीनी बच्‍चों के नामों की दूर की मुश्किल, कमाए 50 हजार पाउंड

16 साल की इस लड़की ने चीनी बच्‍चों के नामों की दूर की मुश्किल, कमाए 50 हजार पाउंड

16
दुनिया में कई देशों में अपनी ही राष्‍ट्रभाषा में ही बात सारी बातें होती हैं। यहां तक की बच्‍चे का नामकरण भी। चीन में भी ऐसा ही होता है। लेकिन समस्या तब शुरू हो जाता है, जब चीनी बच्चे किसी दूसरे देश में पढ़ने और नौकरी के लिए जाते हैं और वहां उनका नाम पुकारा जाना कठिन हो जाता है।
इसी समस्‍या का समाधान करते हुए एक 16 साल की लड़की बीयू जीसप ने चीनी बच्‍चो के अंग्रेजी नाम रखना शुरू किया और अब तक वो इससे 50 हजार पाउंड कमा चुकी है। 16 साल की बेटी बीयू जीसप जब चीन गई तो वहां उसके पैरेंट्स लूज वुमन पैनलिस्‍ट और बिल स्‍टार लीजा मेक्‍सवेल के परिचितों ने उससे अपने होने वाले बच्‍चों के अंग्रेजी नाम रखने के लिए कहा। बीयू इस तरह की बातों से लगातार दो-चार होने लगी और फिर उसने इसे अपना प्रोफेशन बना लिया।
बीयू 6 महीनों में 2.21 लाख चीनी बच्‍चों के अंग्रेजी नाम सजेस्‍ट कर चुकी है। चीनी नाम के चलते इन बच्‍चों के ईमेल आईडी बन पाते हैं और इसके अलावा यूके में पढ़ाई के लिए उन्‍हें अंग्रेजी नाम रखना जरूरी होता है। ऐसे में उनके नाम फिल्‍मी किरदार पर रख दिए जाते हैं। इन अजीब नामों को देखकर बीयू ने इन चीनी दंपतियों की मदद करना शुरू किया और फिर इसे अपना बिजनेस बना लिया। बीयू ने स्‍पेशलनेम डॉट सीयू नाम से एक वेबसाइट भी शुरू की है, जो चीनी बच्‍चों के अंग्रेजी नाम बताती है।
बीयू की वेबसाइट होने वाले माता-पिता को 12 पर्सनेलिटी ट्रेट में से चुनाव का मौका देते है, जो उनकी अपने बच्‍चे के लिए सोच के अनुसार होते हैं। इन्‍हें चुनने के बाद उनके सामने संस्‍कृति के अनुसार तीन नाम आते हैं। इन नामों को वो अपने रिश्‍तेदारों से शेयर करएक नाम तय कर पाते हैं। इन नामों के साथ उनका मतलब भी दिया होता है। कुछ ही समय में यह साइट तेजी से बढ़ी है और इस पर औसत 27 हजार विजिटर्स आते हैं. जिससे हर महीने 16 हजार पाउंड की कमाई हो जाती है। बीयू के मुताबिक वो बताते हैं कि अंग्रेजी नाम महत्‍वपूर्ण है, क्‍योंकि वो पूरी जिंदगी साथ रहता है।
उसका कारण है ये कि चीनी नाम का उपयोग यूके में ईमेल या यूनिवर्सिटी में एडमिशन के लिए नहीं कर सकते। चीनी लोग अपने बच्‍चों के लिए नाम चाहते थे और उसने उन्हें अंग्रेजी संस्‍कृति के अनुरुप नाम बताए। बीयू कहती है कि उसे गर्व है वो चीनी लोगों के कई खुशियोंभरे पलों में उनके साथ रही।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *