Monday , March 4 2024 6:42 AM
Home / Uncategorized / हमास का दावा- गाजा के रफा शहर में इजराइली नरसंहार में 100 लोगों की मौत, 14 लाख फिलीस्तीनियों ने छोड़ा घर

हमास का दावा- गाजा के रफा शहर में इजराइली नरसंहार में 100 लोगों की मौत, 14 लाख फिलीस्तीनियों ने छोड़ा घर


अमेरिका की चेतावनी के बावजूद इजराइल द्वारा गाजा पट्टी के दक्षिणी शहर रफा में सोमवार सुबह कई हमले किए गए। हमास ने अपने आधिकारिक बयान में कहा कि रफा शहर पर नाजी कब्जे वाली सेना का हमला नागरिकों और विस्थापित बच्चों, महिलाओं और बुजुर्गों के खिलाफ भयानक नरसंहार है जिसमें अब तक 100 से अधिक लोगों की जान चली गई है। हमास ने दावा किया है कि दक्षिणी गाजा शहर रफा पर इजरायल का हमला फिलिस्तीनी लोगों के खिलाफ छेड़े गए “नरसंहार युद्ध” और जबरन विस्थापन के प्रयासों की निरंतरता है। रफ़ा शहर पर दुश्मन की आतंकवादी सेना का हमला एक संयुक्त अपराध है और हमारे लोगों के खिलाफ किए जा रहे नरसंहारों के दायरे का विस्तार है।
हमास ने कहा कि चार महीने से जारी इजराइल-हमास युद्ध में गाजा पट्टी में यह शहर जिन दुखद स्थितियों का सामना कर रहा है, उन्हें देखते हुए करीब 14 लाख फिलीस्तीनी अपने घरों को छोड़कर जा चुके हैं। उधर, इजराइल ने संकेत दिया है कि गाजा में उसके जमीनी अभियान के तहत मिस्र की सीमा पर स्थित घनी आबादी वाले इस शहर को निशाना बनाया जा सकता है। वहीं, व्हाइट हाउस ने कहा कि अमेरिका के राष्ट्रपति जो बाइडेन ने रविवार को इजराइली प्रधानमंत्री बेंजामिन नेतन्याहू से कहा है कि इजराइल को आम नागरिकों की सुरक्षा की “ठोस” योजना के बिना गाजा के घनी आबादी वाले रफह शहर में सैन्य अभियान शुरू नहीं करना चाहिए।
रफा में एक पत्रकार ने बताया कि सोमवार सुबह कुवैत हॉस्पिटल के आसपास हमले किए गए। घायलों में से कुछ लोगों को अस्पताल में भर्ती कराया गया। इजराइली सेना ने कहा कि उसने रफा के ‘‘शबौरा इलाके में आतंकी ठिकानों” को निशाना बनाया। सैन्य बयान में कहा गया है कि कई हमले किए गए लेकिन उसने यह नहीं बताया कि किन ठिकानों को निशाना बनाया गया या इससे कितना नुकसान पहुंचा है। फिलीस्तीन के स्वास्थ्य अधिकारियों ने अभी हताहतों के बारे में कोई जानकारी नहीं दी है।
मिस्र के दो अधिकारियों और एक पश्चिमी राजनयिक ने कहा था कि मिस्र ने चेतावनी दी है कि अगर इजराइली सैनिकों को रफह में भेजा जाता है तो वह इजराइल के साथ अपना शांति समझौता निलंबित कर देगा। मिस्र की चेतावनी के बाद बाइडन और नेतन्याहू के बीच बातचीत हुई है। नेतन्याहू के कार्यालय ने बाइडन की अपील पर टिप्पणी करने से इनकार कर दिया है। हमास के अल-अक्सा टेलीविजन स्टेशन ने चरमपंथी समूह के एक अज्ञात अधिकारी के हवाले से बताया कि रफह में किसी भी हमले से अमेरिका, मिस्र और कतर की मध्यस्थता वाली वार्ता ‘‘बाधित” होगी।