Thursday , February 9 2023 2:30 AM
Home / News / अमरीका में पाक राजदूत, मिशेल ओबामा के साथ फोटो डाल के फसे, व्हाइट हाउस ने कहा- ये धोखा है

अमरीका में पाक राजदूत, मिशेल ओबामा के साथ फोटो डाल के फसे, व्हाइट हाउस ने कहा- ये धोखा है

 

 

us_1472559314
पाक एंबेसेडर जिलानी ने मिशेल के साथ यही फोटो ट्वीट की थी जिस पर विवाद हुआ।

वॉशिंगटन.मिशेल ओबामा के साथ फोटो ट्वीट करके अमेरिका में पाकिस्तानी एंबेसडर जलील अब्बास जिलानी बुरी तरह फंस गए हैं। अमेरिका ने पाकिस्तान को इस मसले पर एक सख्त ऑफिशियल नोट भेजा है। मई में मिशेल जिलानी के एक फैमिली फंक्शन में कुछ देर के लिए जलील के पाकिस्तान हाउस गईं थीं। जलील ने पत्नी और मिशेल के साथ फोटो सोशल मीडिया पर शेयर कर दिया था। व्हाइट हाउस ने इसे ‘ब्रीच ऑफ ट्रस्ट’ मानते हुए पाकिस्तान को नोट भेजा है। क्या है मामला…

– मई के आखिरी हफ्ते में जलील के बेटे ने ग्रेजुएशन पूरी की। इसके लिए जलील ने एक पार्टी होस्ट की। इसमें मिशेल बहुत कम वक्त के लिए पहुंचीं।
– दरअसल, ओबामा की दोनों बेटियां (साशा और मालिया) भी उसी स्कूल में पढ़ती हैं, जहां जलील का बेटा पढ़ता है।
– यह पूरी तरह फैमिली फंक्शन था। प्रोटोकॉल के मुताबिक, इसके फोटोज सोशल मीडिया पर शेयर नहीं किए जा सकते थे।

अमेरिका क्यों नाराज?

– अब्बास ने अपने ट्विटर अकाउंट पर मिशेल और अपनी फैमिली के फोटो शेयर कर दिए। यूएस मीडिया में जलील की इस हरकत का काफी विरोध भी हुआ।
– इसके बाद व्हाइट हाउस ने पाकिस्तानी एंबेसी को जलील की हरकत बताते हुए एक सख्त नोट भेजा। इसमें कहा गया कि जलील की यह हरकत धोखा है। यह भी कहा गया कि पाकिस्तानी एंबेसडर ने डिप्लोमैटिक प्रोटोकॉल का उल्लंघन किया है।

जलील ने डिलीट किया ट्वीट

– जैसे ही यह खबर अमेरिकी मीडिया में आई, जलील ने यह फोटो और ट्वीट अपने अकाउंट से हटा दिए। इस ट्वीट के कैप्शन में लिखा गया था- अमेरिका की फर्स्ट लेडी को होस्ट करके हम काफी खुश हैं।

अमेरिका को जलील के इरादों पर शक

– पाकिस्तानी अखबार ‘डेली पाकिस्तान’ के मुताबिक अमेरिका की नाराजी दो वजहों से है।
– पहली- जलील ट्वीट के जरिए यह जताना चाहते थे कि वे अमेरिका की फर्स्ट फैमिली के काफी नजदीक हैं। दूसरी- अमेरिका और पाकिस्तान के रिश्ते काफी बेहतर हैं।

हकीकत कुछ और

– हकीकत यह है कि अमेरिका और पाकिस्तान के रिश्ते बुरे दौर से गुजर रहे हैं। कुछ दिन पहले ही अमेरिका ने पाकिस्तान को दी जाने वाली मिलिट्री एड और 8 जेट फाइटर्स की बिक्री पर रोक लगा दी थी।
– पाकिस्तान के कड़े विरोध के बावजूद अमेरिका ने ड्रोन हमले बंद नहीं किए हैं। कुछ महीने पहले ऐसे ही एक ड्रोन हमले मे तालिबान सरगना मुल्ला अख्तर मंसूर मारा गया था।

अब क्या होगा?

– इस बात के संकेत हैं कि अमेरिका पाकिस्तान पर इस बात का दबाव बनाए कि वो जलील को यूएस से वापस बुलाए।

 

About indianz xpress

Pin It on Pinterest

Share This