Tuesday , August 9 2022 1:18 PM
Home / Lifestyle / बच्‍चों को पता होना चाहिए कि घर पर अकेले रहते समय उन्‍हें किन बातों का ध्‍यान रखना है

बच्‍चों को पता होना चाहिए कि घर पर अकेले रहते समय उन्‍हें किन बातों का ध्‍यान रखना है

पैरेंट्स को अक्‍सर बच्‍चों को घर पर अकेले छोड़कर जाना पड़ता है। कभी काम से तो कभी किसी एमेरजेंसी में पैरेंट्स बच्‍चों को घर अकेला छोड़कर जाते हैं। ऐसी परिस्थितियों के लिए मां-बाप को अपने बच्‍चों को तैयार करना चाहिए। बच्‍चों को पता होना चाहिए कि घर पर अकेले रहते समय उन्‍हें किन बातों का ध्‍यान रखना है। भले ही आप पास के मार्कट जा रहे हैं आपको आने में 15 से 20 मिनट का समय ही लगे लेकिन फिर भी आपको अपने बच्‍चे को घर पर अकेले रहने के लिए कुछ चीजें सिखानी चाहिए।
आप नहीं जानते कि कब अचानक से आपको घर से बाहर निकलना पड़ जाए और आपका बच्‍चा घर पर अकेला हो। बेहतर होगा कि आप अपने बच्‍चे को इस परिस्थिति को हैंडल करना सिखाएं। इससे बच्‍चा आत्‍मनिर्भर बन पाए और कोई मुश्किल आने पर उसे भी अच्‍छे से हैंडल कर पाएगा और आप भी निश्चिंत होकर जा पाएंगे।
साइकोलॉजिस्‍ट भी मानते हैं कि अगर बच्‍चों को घर पर अकेले रहना सिखाया जाए तो इससे वो ज्‍यादा आत्‍मनिर्भर, जिम्‍मेदार और कॉन्फिडेंट बनते हैं। यहां हम आपको कुछ ऐसे टिप्‍स बता रहे हैं जो बच्‍चों को घर पर अकेला छोड़कर जाने पर काम आ सकते हैं और इन टिप्‍स की मदद से आप अपने बच्‍चे को घर पर अकेला रहने के लिए तैयार कर सकते हैं।
​एमेरजेंसी नंबर : बच्‍चे के फोन में भले ही फैमिली के मोबाइल नंबर हों, आप फिर भी उसे 2 से 3 एमेरजेंसी नंबर याद करवाएं। इसमें पैरेंट्स का नंबर, करीबी रिश्‍तेदार और भरोसेमंद पड़ोसी का नंबर होना चाहिए। आप घर पर कॉन्‍टैक्‍ट नंबरों की एक डायरी बनाकर भी रख सकते हैं। घर से निकलने के बाद बच्‍चे का हाल-चाल पूछने के लिए बीच-बीच में कॉल करते रहें।
स्‍क्रीन टाइम : आपकी गैर मौजदूगी में बच्‍चा सारा समय टीवी देखने, वीडियो गेम खेलने या इंटरनेट यूज करने में बिता सकता है। आप स्‍क्रीन टाइम को लेकर थोड़ा स्ट्रिक्‍ट रहें और बच्‍चे को समझाएं कि इस तरह के नियम उसके लिए क्‍यों जरूरी हैं।
​सेफ्टी : सुरक्षा के नजरिए से बच्‍चे का घर पर अकेला होना मुश्किल खड़ी कर सकता है। आप बच्‍चे को गैस खोलना और बंद करना जरूर सिखाएं। उसे बताएं कि आपके घर पर ना होने पर उसे चाकू वगैरह का इस्‍तेमाल नहीं करना है।
​खाना : घर पर बच्‍चे के लिए स्‍नैक्‍स या कुछ खाने को होना चाहिए। आपके घर पर ना होने पर बच्‍चे को कुछ पकाना ना पड़े और वो स्‍नैक्‍स खाकर अपनी भूख मिटा ले क्‍योंकि अकेले होने पर गैस वगैरह खोलना खतरनाक हो सकता है। अगर आपको पता है कि आज आपको बच्‍चे को घर पर अकेले छोड़कर जाना है तो पहले से ही उसके लिए खाना बनाकर जाएं।
​दरवाजा कब खोलना : ये सबसे अहम नियम है कि जब कोई दरवाजा खटखटाए तो गेट खोलना है या नहीं। बच्‍चे को सिखाएं कि उसे तब तक दरवाजा नहीं खोलना है, जब तक उसे ये ना पता चल जाए कि बाहर कौन है। अजनबियों को तो बिल्‍कुल भी घुसने नहीं देना है। अगर कोई जान-पहचान का भी है तो पहले पैरेंट्स को कॉल कर के पूछना है।

About indianz xpress

Pin It on Pinterest

Share This