Thursday , September 24 2020 3:16 PM
Home / Off- Beat / यह आर्टिस्ट टाइपराइटर से लिखता नहीं, पेंटिंग्स बनाता है

यह आर्टिस्ट टाइपराइटर से लिखता नहीं, पेंटिंग्स बनाता है


टाइपराइटर गुजरे वक्त की बात हो गई है। हालांकि, कोर्ट कचहरी के बाहर कुछ हाथ अब भी इनका इस्तेमाल करते दिख जाते हैं। ‘टाइपराइट’ के नाम से ही जाहिर है कि यह चीज लिखने के लिए है। लेकिन एक नौजवान टाइपराइटर से बेहतरीन आर्ट पीस बनाता है। दरअसल, 23 वर्षीय जेम्स कुक आर्किटेक्चर के स्टूडेंट हैं। लेकिन मैनुअल टाइफराइटर से चित्रकारी करना उनका शौक है। उनके खास और शानदार आर्टवर्क में आपको इमारतें, चेहरे और जिंदगियां देखने को मिलेंगी।
में शुरू किया यह काम : टाइपराइटर से आर्ट पीस क्रिएट करने की तरफ जेम्स का रुझान 6 साल पहले यानी 2014 हुआ था। दरअसल, उन्होंने एक ऐसे शख्स की कहानी जानी थी जो Cerebral Palsy से पीड़ित था। इसके कारण वो पेंसिल और पेंट ब्रश को तक नहीं पकड़ सकता था तो उसने टाइपराइटर के जरिए ड्रॉइंग शुरू कर दी। सबसे बड़ी बात की टाइपराइटर से बना एक आर्ट वर्क लंबे समय तक चलाता है।
अब है 30 टाइपराइटर का कलैक्शन : इसके बाद जेम्स ने एक बुजुर्ग कपल से अपना पहला टाइपराइटर खरीदा। वैसे भी आज के टाइम में टाइपराइटर खोजना एक चुनौतीपूर्ण काम है क्योंकि लोग उन्हें भूलते जा रहे हैं। लेकिन अब जेम्स के पास 30 टाइपराइटर्स का बेहतरीन कलेक्शन है, जिनकी मदद से वो अद्भुत आर्ट पीस क्रिएट करते हैं।
आसान नहीं है यह अंदाज अपनान : आर्ट क्रिएट करने का यह अंदाज काफी मुश्किल और काफी वक्त वाला है। इसे करते हुए ऐसा लगता है कि मानों आप एक नई भाषा सीख रहे हों। जेम्स कहते हैं कि इन 6 सालों में उन्होंने खुद पर बहुत काम किया है। पहले उनकी ड्रॉइग्स बेहद नॉर्मल होती थीं। लेकिन अब वो हर बरीकी पर काम करते हैं ताकि उनका आर्ट वर्क परफेक्ट नजर आए।
इंस्टा पर हैं 9 हजार से ज्यादा फॉलोअर्स : जेम्स बताते हैं कि इस काम में सबसे पेचीदा आर्ट पीस को बनाने में तकरीबन 30 घंटे का वक्त तक लग जाता है। वो अपने काम के लिए A4 साइज के कागज का इस्तेमाल करते हैं। और हां, उनको हर ड्रॉइंग में लगभग 9 से 30 घंटे लगते हैं। जेम्स इंस्टाग्राम पर James Cook Artwork नाम से हैं, जहां उन्हें 9 हजार से अधिक लोग फॉलो करते हैं।

About indianz xpress

Pin It on Pinterest

Share This