Thursday , May 19 2022 7:54 PM
Home / News / ब्रिटेन के प्रिंस एंड्रयू की सैन्य पदवी और शाही संरक्षण खत्म, ‘वॉर हीरो’ पर यौन शोषण का लगा है आरोप

ब्रिटेन के प्रिंस एंड्रयू की सैन्य पदवी और शाही संरक्षण खत्म, ‘वॉर हीरो’ पर यौन शोषण का लगा है आरोप

यौन शोषण के आरोपी ब्रिटिश प्रिंस एंड्रयू ने सैन्य पदवी और शाही संरक्षण को वापस कर दिया है। बकिंघम पैलेस ने बताया है कि महारानी एलिजाबेथ द्वितीय की मंजूरी के बाद ड्यूक ऑफ यॉर्क की सैन्य पदवी और शाही संरक्षण को खत्म कर दिया गया है। अब आधिकारिक तौर पर वह अपने नाम के साथ हिज रॉयल हाइनेस जैसे अलंकार का इस्तेमाल नहीं कर सकेंगे। ड्यूक ऑफ यॉर्क प्रिंस एंड्रयू को ब्रिटेन में एक सम्मानित वॉर हीरो से प्लेबॉय प्रिंस का खिताब भी मिल चुका है।
ब्रिटिश सिंहासन पर दावेदारी की कतार में प्रिंस एंड्रयू का स्थान नौंवा था। उसकी अन्य भूमिकाएं शाही परिवार के अन्य सदस्यों के बीच बांट दी जाएंगी। इस दौरान ड्यूक ऑफ यॉर्क कोई सार्वजनिक कर्तव्य नहीं निभाएंगे और एक निजी नागरिक के रूप में इस मामले का बचाव करेंगे। उनके खिलाफ वर्जीनिया रॉबर्ट्स गिफ्रे नाम की एक महिला ने जबरदरस्ती यौन संबंध बनाने का केस दायर किया है।
हाल में ही अमेरिका की एक अदालत ने प्रिंस एंड्रयू के खिलाफ मामले की सुनवायी जारी रखने का ऐलान किया था। वर्जीनिया रॉबर्ट्स गिफ्रे का दावा है कि वह कुख्यात सेक्स ट्रैफिकर और फाइनेंसर जेफरी एपस्टीन की शिकार थी। गिफ्रे ने 2019 में पहली बार बीबीसी को बताया था कि उन्हें ब्रिटेन के प्रिंस एंड्रयू के साथ यौन कृत्य करने के लिए मजबूर किया गया था।
जेफरी एपस्टीन ने गिफ्रे को भेजा था : वर्जीनिया रॉबर्ट्स गिफ्रे का दावा है कि ड्यूक ऑफ यॉर्क से यौन संबंध बनाने के लिए उन्हें जेफरी एपस्टीन ने अपने जाल में फंसाकर भेजा था। गिफ्रे का दावा है कि एपस्टीन ने उन्हें कम उम्र में ड्यूक ऑफ यॉर्क सहित अपने दोस्तों के साथ यौन संबंध बनाने के लिए मजबूर किया था। एंड्रयू ने गिफ्रे के आरोपों का बार-बार खंडन किया है, लेकिन एपस्टीन के साथ प्रिंस के संबंधों को लेकर संदेह भी जाहिर किया गया है।
प्रिंस एंड्रयू शाही दायित्वों को छोड़ चुके हैं : 2019 में प्रिंस एंड्रयू ने आरोपों के बाद अपने शाही दायित्वों को छोड़ दिया था। प्रिंस ने तब बीबीसी के बात करते हुए कहा था कि उन्होंने स्थिति को समझते हुए महारानी से अपने कर्तव्यों से पीछे हटने की अनुमति मांगी है। उन्होंने कहा कि वह यौन शोषण के अभियुक्त जेफरी एपस्टीन के केस में सभी पीड़िताओं समेत हर उस शख्स के प्रति सहानुभूति रखते हैं।
ब्रिटिश नेवी में काम कर चुके हैं प्रिंस : प्रिंस एंड्रयू 1978 में रायल नेवी के एविएशन विंग में शामिल हुए थे। मार्च और अप्रैल 1979 के दौरान उन्हें रॉयल नेवल कॉलेज फ़्लाइट में नामांकित किया गया। १९७९ के दौरान उन्होंने रॉयल मरीन ऑल आर्म्स कमांडो कोर्स भी पूरा किया, जिसके लिए उन्होंने अपना ग्रीन बेरेट प्राप्त किया।[13] उन्हें 1 सितंबर 1981 को एक उप-लेफ्टिनेंट के रूप में नियुक्त किया गया था और 22 अक्टूबर को प्रशिक्षित शक्ति में नियुक्त किया गया था।
फॉकलैंड युद्ध के हीरो थे प्रिंस एंड्रयू : अर्जेंटीना ने 2 अप्रैल 1982 को एक ब्रिटिश ओवरसीज क्षेत्र फ़ॉकलैंड द्वीप समूह पर आक्रमण कर दिया। उस समय ब्रिटिश नौसेना के पास दो में से एक एयरक्राफ्ट कैरियर ही युद्ध के लिए तैयार था। इस एयरक्राफ्ट कैरियर के साथ प्रिंस एंड्रयू भी फॉकलैंड युद्ध में शामिल होने वाले थे। उस समय ब्रिटिश शाही घराने ने युद्ध में उनके मारे जाने की आशंका व्यक्त करते हुए डेस्क जॉब देने की सिफारिश की थी, लेकिन प्रिंस एंड्रयू अड़ गए और वे युद्ध में शामिल हुए।

About indianz xpress

Pin It on Pinterest

Share This