Sunday , July 3 2022 11:41 AM
Home / News / इमरान खान का दावा : मैं कभी भी अपनी पसंद का सेना प्रमुख नहीं चाहता था, अल्लाह मेरा गवाह,

इमरान खान का दावा : मैं कभी भी अपनी पसंद का सेना प्रमुख नहीं चाहता था, अल्लाह मेरा गवाह,

पाकिस्तान के पूर्व प्रधानमंत्री इमरान खान ने दावा किया है कि उन्होंने कभी भी अपनी पसंद का सेना प्रमुख नियुक्त करने के बारे में नहीं सोचा। उन्होंने इस्लामाबाद में एक सम्मेलन के दौरान कहा कि अल्लाह मेरा गवाह है, मैं कहता हूं कि मैंने कभी नहीं सोचा था कि नवंबर में सेना प्रमुख कौन होगा। इमरान खान को अपना खुद का सेना प्रमुख नियुक्त करने की आवश्यकता नहीं थी। दरअसल, पाकिस्तानी सेना प्रमुख जनरल कमर जावेद बाजवा नवंबर 2022 में रिटायर हो रहे हैं, जिसके बाद पाकिस्तानी राजनीतिक गलियारे में नए सेना प्रमुख को लेकर खूब चर्चा हो रही है।
‘नवाज शरीफ ने पाकिस्तान की संपत्ति लूटी’ : अविश्वास प्रस्ताव के जरिए प्रधानमंत्री के पद से हटाए गए इमरान खान ने आरोप लगाया कि नवाज शरीफ ने देश की संपत्ति लूटी है। और वह अपने भ्रष्टाचार को बचाने के लिए सरकारी संस्थानों को नियंत्रित करना चाहते हैं। उन्होंने कहा कि मैंने सत्ता में आने पर बहुत पहले ही कहा था कि नवाज शरीफ और पीपीपी प्रमुख आसिफ अली जरदारी दोनों हाथ मिलाएंगे क्योंकि उनके हित एक समान हैं।
मैं कभी भी अपनी पंसद का सेना प्रमुख नहीं चाहता था : इमरान खान ने दावा किया कि पीएमएल-एन के नेता खुर्रम दस्तगीर ने कहा है कि मैं अपनी पसंद का एक सेना प्रमुख लाना चाहता था, लेकिन मैंने यह भी नहीं सोचा था कि देश का अगला सेना प्रमुख कौन होगा। हमने समय आने पर योग्यता के आधार पर अगला सेना प्रमुख नियुक्त करने का फैसला किया था। इमरान खान ने कहा कि पीएमएल-एन और पीपीपी के नेता डरते थे कि अगर मैंने लेफ्टिनेंट जनरल फैज हमीद को अगले थल सेनाध्यक्ष के रूप में लाने का फैसला किया, तो उनका राजनीतिक भविष्य बर्बाद हो जाएगा।
नवाज और जरदारी ने पैसा चुराया, इसलिए… : उन्होंने कहा कि जरा सोचिए कि क्या होगा जब आंतरिक मंत्री राणा सनाउल्लाह राष्ट्रीय जवाबदेही ब्यूरो (एनएबी) के मामलों को देखेंगे। उन्होंने अपनी चोरी छिपाने के लिए न्यायिक संस्थाओं की कब्र खोद दी है। पीपीपी और पीएमएल-एन दोनों नेता सेना से डरते हैं क्योंकि उनकी ‘चोरी’ की सूचना आईएसआई और अन्य संवेदनशील एजेंसियों के पास मौजूद है। इमरान ने दावा किया कि चूंकि नवाज शरीफ और जरदारी ने पैसा चुराया है, वे संस्थानों को नियंत्रित करना चाहते हैं।
भारत को मजबूत करना चाहता है अमेरिका : इमरान खान ने आरोप लगाया कि अमेरिका अपने फायदे के लिए सरकारें बदलता है न कि हमारे लोगों के लाभ के लिए। अमेरिका चाहता है कि भारत मजबूत हो और चीन के साथ प्रतिस्पर्धा करे … इजरायल को पहचानना और कश्मीर को भूल जाना उनका एजेंडा है। इससे पहले दिन में, इमरान खान ने स्टैनफोर्ड यूनिवर्सिटी के एक अध्ययन का हवाला देते हुए कहा कि उनकी सरकार ने पाकिस्तान के इतिहास में ‘पहली बार’ कल्याणकारी राज्य की नींव रखी थी।

About indianz xpress

Pin It on Pinterest

Share This