Sunday , January 24 2021 10:37 PM
Home / Spirituality / वास्तु के हिसाब से होना चाहिए घर का Bedroom

वास्तु के हिसाब से होना चाहिए घर का Bedroom


घर का बेडरूम आनंद और आराम की प्रमुख जगह है। यहां से घर की सुख शांति नियंत्रित होती है। ज्योतिष के हिसाब से यहां शुक्र और चन्द्रमा का प्रभाव होता है। कहते हैं कि इस स्थान के गड़बड़ होने से घर में अशांति पैदा होती है। यहां तक कि पति-पत्नी के बीच अलगाव की नौबत आ जाती है। गृहस्थी पर हमेशा संकट बना रहता है। वहीं वास्तु के हिसाब से भी बेडरूम का सही होना बहुत जरूरी होता है।
वास्तु के हिसाब से शयनकक्ष को बनाते वक़्त उसमें रहने वाली सकारात्मक ऊर्जा पर मुख्य ध्यान दिया जाता है क्योंकि वास्तु के अनुसार शयनकक्ष ही आपके घर का वो कौना है जहां आप आराम करते हैं व हर रोज़ ऊर्जावान महसूस करते हैं। वास्तु शास्त्र में ऐसे कई नियम हैं जो आपके बैडरूम में सकारत्मक ऊर्जा पैदा करके। आपको स्वस्थ, स्फूर्तिवान व सक्रिय बनाए रख सकते हैं।
घर के दक्षिण पश्चिम की दिशा बेडरूम के लिए सर्वोत्तम है। इसके अलावा पश्चिम दिशा का भी प्रयोग किया जा सकता है। लेकिन बेडरूम उत्तर पूर्व या दक्षिण पूर्व में न हो तो अच्छा होगा। बेडरूम में पलंग पूर्व पश्चिम या उत्तर दक्षिण की ओर होना चाहिए। सोते समय सिर पूर्व या दक्षिण दिशा की ओर रहना चाहिए।
बेडरूम का पलंग लकड़ी का हो तो सर्वोत्तम होगा। लोहे या धातु का पलंग अच्छा नहीं होता है। पलंग आयताकार या वर्गाकार होना चाहिए। गोल पलंग रखना बिलकुल अच्छा नहीं होता है। वास्तु के हिसाब से पलंग बेड बॉक्स न हो तो और भी अच्छा होगा और साथ ही पलंग के नीचे जूते चप्पल न रखें।
वहीं बेडरूम में डार्क कलर न लगाएं और न ही गहरे रंग का कोई सामान रखें। गहरे रंग की बजाए गुलाबी, क्रीम, हल्का हरा रंग सर्वोत्तम होता है। बेड के सामने शीशा बिलकुल न हो। यहां तक कि बेडरूम में टीवी और इलेक्ट्रॉनिक के सामान भी न रखें। ध्यान रखें कि कूड़ा पात्र, मंदिर और पूर्वजों के चित्र भी बेडरूम में नहीं होने चाहिए। बेडरूम में हल्की सुगंध का प्रयोग करना लाभदायक होता है। बेडरूम में नमक का पोंछा जरूर लगाएं।
बेडरूम के कोने में खिड़कियां या प्रवेश द्वार नहीं होना चाहिए। यह आपके घर से नकारात्मक ऊर्जा बाहर निकाल कर सकारत्मक ऊर्जा को आकर्षित करती है।

About indianz xpress

Pin It on Pinterest

Share This