Saturday , January 23 2021 4:59 PM
Home / Lifestyle / शादी के शुरुआती दो साल पति-पत्नी के लिए होते हैं बेहद खास

शादी के शुरुआती दो साल पति-पत्नी के लिए होते हैं बेहद खास


कहते हैं कि शादी के पहले दो साल नवविवाहित जोड़ों के लिए बेहद महत्वपूर्ण होते हैं क्योंकि यही समय निर्धारित करता है कि आप एक-दूसरे के साथ खुश रहेंगे या नहीं। ऐसे में आज हम आपको बता रहे हैं कि दंपतियों को शादीशुदा जीवन के शुरुआती दो साल कैसे संभालने चाहिए।
इस बात से इनकार नहीं किया जा सकता कि विवाहित जीवन समस्याओं और संघर्षों से भरा होता है, जो कभी-कभार शादीशुदा जोड़ों को बहुत हद तक परेशान कर सकता है। जहां शुरुआती दिनों में ही कुछ कपल्स छोटी-छोटी बातों को लेकर खिटपिट का शिकार हो जाते हैं, तो वहीं कुछ लोग अपनी शादीशुदा जिंदगी को बेहतर बनाने के लिए हर संभव प्रयास करते हैं। हां, वो बात अलग है कि शादी के शुरुआती दिनों में एक-दूसरे संग तालमेल बिठाने और मजबूत बंधन बनाने वाली तमाम कोशिशों के बाद भी कुछ जोड़ों का रिश्ता पेचीदा हो जाता है।

 

कहते हैं कि शादी के पहले दो साल पति-पत्नी दोनों के लिए ही बहुत महत्वपूर्ण माने जाते हैं। शादी के शुरुआती चरण के दौरान जहां कुछ कपल्स खुश रहने और समझने के लिए एक-दूसरे से जुड़े रहना चाहते हैं, तो वहीं बहुत कपल्स खुद को सारी कई जिम्मेदारियों से बंधा हुआ महसूस करने लगते हैं, जिसकी वजह से दोनों लोगों के बीच नकारात्मक भावनाएं पैदा हो जाती हैं। ऐसे में आज हम आपको बताने जा रहे हैं कि दंपतियों को शादीशुदा जीवन के शुरुआती दो सालों को कैसे संभालना चाहिए।
प्यार से पेश आएं : इस बात में कोई दोराय नहीं कि शादी के पहले दो साल अक्सर विवाहित जोड़ों के बीच अच्छे रिश्ते को निर्धारित करने में लग जाते हैं। इस दौरान पति-पत्नी न केवल एक-दूसरे को समझने की कोशिश करते हैं बल्कि उन्हें एक-दूसरे की उन आदतों का भी पता चलता है, जो ज्यादातर शादी से पहले वह नहीं जान पाते।
हालांकि, प्रेम विवाह वाले संबधों में पहले ही पार्टनर एक-दूसरे की अच्छी बुरी आदतों को करीब से जान चुके होते हैं जबकि अरेंज्ड मैरिज में इसका उल्टा होता है। ऐसे में अगर आपको अपने पार्टनर की कुछ आदतें पसंद नहीं आती हैं, तो उन पर लड़ने-झगड़ने की बजाए उन्हें प्यार से समझाने की कोशिश करें। राज कुंद्रा ने कह ही दी पत्नी शिल्पा शेट्टी के लिए दिल की बात, इस सच को जानना है बेहद जरूरी

सकारात्मक सोच के साथ शुरू करें रिश्ता : हमेशा सकारात्मक सोच के साथ नए रिश्ते को शुरू करने की सलाह दी जाती है। ऐसा इसलिए क्योंकि शादी के बाद बहुत से जोड़े खुद को बहुत सारी जिम्मेदारियों से बंधे हुए महसूस कर सकते हैं, जिसकी वजह से भी उन्हें अपने पार्टनर प्रति मोहभंग और नकारात्मक भावनाएं आने लगती हैं। हालांकि, ऐसे जोड़ों को शादीशुदा जीवन एक मजेदार राइड की तरह लेना चाहिए, जिसमें साथ रहते हुए उन्हें कई मौको को जीने और साथ में बातों को सीखने का मौका मिल सकता है।

रोमांस को जीवित रखें : शादी और हनीमून के बाद ज्यादातर जोड़े अचानक से अपने पुरानी लाइफस्टाइल में पड़कर उदास महसूस करने लगते हैं। वह अक्सर इस बात को भूल जाते हैं कि शादीशुदा जिम्मेदारियों को निभाते हुए भी रोमांस को बरकरार रखा जा सकता है। हमेशा उमंग बनाए रखने के लिए कपल्स को हनीमून जैसे ही कुछ न कुछ नए प्रयोग करते रहने चाहिए। ताकि आपसी बंधन और अधिक मजबूत होता जाए। बॉलीवुड की इन सास-बहू से सीखिए, कैसे अपने रिश्ते में बनाएं प्यार और सम्मान

लगातार बातचीत करते रहें : शादी के शुरुआती समय के दौरान कई बार तमाम कारणों से ज्यादातर जोड़े एक-दूसरे से बात करना बंद कर देते हैं, जोकि उनके शादीशुदा रिश्ते को प्रभावित करने के लिए काफी होता है। हालांकि, ऐसे लोग भूल जाते हैं कि इसी वजह से आगे चलकर आपका रिश्ता काफी तनावपूर्ण हो सकता है। इस समय में आपको एक-दूसरे से रूठने के बजाए एक-दूसरे को समझने के लिए ज्यादा से ज्यादा समय देना चाहिए।

About indianz xpress

Pin It on Pinterest

Share This