Saturday , September 25 2021 1:15 PM
Home / Spirituality / जन्माष्टमी पर मनोकामना के अनुसार करें भगवान श्रीकृष्ण की मूर्ति की पूजा

जन्माष्टमी पर मनोकामना के अनुसार करें भगवान श्रीकृष्ण की मूर्ति की पूजा


भगवान कृष्‍ण की कौन सी मूर्ति घर लेकर आनी चाहिए : जन्‍माष्‍टमी यानी भगवान कृष्‍ण के जन्‍मोत्‍सव का पर्व। ऐसा पर्व जो कि पूरे वातावरण में एक अलग प्रकार की सकारात्‍मक ऊर्जा का संचार करता है। भक्ति के इस माहौल में हम सब भगवान कृष्‍ण का जन्‍मोत्‍सव मनाने की तैयारी जोर-शोर से करते हैं। इस दिन भगवान का जन्‍मोत्‍सव मनाने के साथ ही लड्डूगोपालजी को झूला झुलाने की परंपरा बरसों से चली आ रही है। इसके लिए लोग बाजार से भगवान की सुंदर-सुंदर मूर्तियां लाते हैं, पालना खरीदकर लाते हैं। आज हम आपको बताएंगे के मनोकामना के अनुसार आपको भगवान कृष्‍ण की कौन सी मूर्ति घर लेकर आनी चाहिए।
बाल गोपाल : अगर आपके घर में अभी तक बच्‍चों की किलकारियां नहीं गूंजी हैं तो जन्‍माष्‍टमी के अवसर पर आपको बालगोपाल की मूर्ति घर में लाकर उसकी पूजा करनी चाहिए। कहते हैं भगवान के इस रूप की पूजा करने से भक्‍तों की खाली झोली भर जाती है और उनके घर में फिर से खुशियां आने लगती हैं।
माखन चोर : अगर आप चाहते हैं कि आपके घर में सदैव आनंद बना रहे हैं और सकारात्‍मक ऊर्जा का संचार होता रहे तो आपको जन्‍माष्‍टमी पर भगवान कृष्‍ण के माखन चोर स्‍वरूप की पूजा करनी चाहिए। कहते हैं भगवान के इस रूप की पूजा करने से आपके घर में प्रसन्‍नता और आनंद बना रहता है और अगर आपको भी भगवान कृष्‍ण रूपी नटखट बालक की प्राप्ति होती है।
मुरलीधर कान्‍हाजी : अगर आप चाहते हैं कि आपके घर में कभी धन संपत्ति की कमी न हो और घर में सदैव समृद्धि बनी रहे तो जन्‍माष्‍टमी पर कान्‍हाजी के मुरलीधर रूप की पूजा करें। कहते हैं मुरली वाले की पूजा करने से आपके घर में धन संपत्ति और सांसारिक जीवन में प्रगति प्राप्‍त होती है।
राधा कृष्ण रूप : घर में दांपत्‍य जीवन में खुशहाली लाने के लिए राधा और कृष्ण साथ में मुरली बजाते हुए मूर्ति, प्रेम और परिवार में आपसी तालमेल के लिए भगवान के इस विग्रह की पूजा करनी चाहिए। कहते हैं कि राधा कृष्ण की पूजा करने से आपके परिवार में यदि झगड़े होते हैं तो भी इनमें कमी आने लगती है और पति-पत्‍नी के आपसी संबंध मधुर रहते हैं। अगर आपके वैवाहिक जीवन में झगड़े बने रहते हैं तो अपने बेडरूम में राधा कृष्‍ण की तस्‍वीर या फिर मूर्ति लगानी चाहिए।
चक्रधारी : अगर आपके करियर में या फिर व्‍यापार में बाधाओं और संकट का समय चल रहा है तो विपरीत परिस्थिति से निकलने के लिए जन्‍माष्‍टमी पर भगवान के चक्रधारी रूप की पूजा करनी चाहिए। मान्‍यता है कि ऐसा करने से आपके जीवन से हर प्रकार की समस्‍याएं और करियर से हर प्रकार की रुकावटें दूर होने लगती हैं।
पार्थ सारथी : अर्जुन के रथ का संचालन करते हुए श्रीकृष्ण की मूर्ति की पूजा जन्‍माष्‍टमी पर करने से आपको जीवन में सही दिशा प्राप्‍त होती है। प्रगति के लिए भगवान के पार्थ सारथी स्‍वरूप की पूजा करें। अगर में मन में लगातार किन्‍हीं बातों को लेकर उलझन बनी है या फिर कोई फैसला लेने में परेशानी महसूस कर रहे हैं तो इस बार जन्‍माष्‍टमी पर भगवान के इस रूप को घर लेकर आएं।
गीता ज्ञान देते कान्हा : आध्‍यात्मिक जीवन में उन्नति, मोक्ष की आकांक्षा और ज्ञान की प्राप्ति के लिए गीता का उपदेश देते हुए श्रीकृष्ण की मूर्ति की पूजा करें। नियमित इनकी पूजा से जीवन की दिशा बदल जाती है और व्यक्ति सांसारिक मोह से जाल से मुक्त होकर मुक्ति के मार्ग पर बढ़ने लगता है।

About indianz xpress

Pin It on Pinterest

Share This