Tuesday , August 9 2022 1:04 PM
Home / News / इजराइल के 14वें प्रधानमंत्री बने येर लैपिड

इजराइल के 14वें प्रधानमंत्री बने येर लैपिड

इजराइल के 14वें प्रधानमंत्री के रूप में येर लैपिड को चुना गया है। रिपोर्ट के मुताबिक नए प्रधानमंत्री का कार्यकाल मात्र 5 महीने का ही होगा। उन्हें 1 नवंबर को होने वाले चुनाव तक के लिए कार्यवाहक प्रधानमंत्री के रूप में चुना गया है। बता दें कि इजराइल में पिछले 3 साल में 5वीं बार प्रधानमंत्री का चुनाव होगा। गुरुवार को लैपिड ने निवर्तमान प्रधानमंत्री नफ्ताली बेनेट से हैंडओवर लिया। इसके साथ ही उन्होंने कहा कि इजराइल को हम यहूदी, मजबूत, लोकतांत्रिक राज्य बनाने का प्रयास करेंगे।
पीएम मोदी और अमेरिकी राष्ट्रपति ने दी बधाई : इजराइल के नए प्रधानमंत्री बनने के बाद येर लैपिड को भारतीय प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने ट्वीट कर बधाई दी। उन्होंने कहा कि येर लैपिड को मैं इजराइल के 14वें प्रधानमंत्री बनने पर उन्हें बधाई देता हूं। इसके साथ उन्होंने लिखा कि जब हम पूर्ण राजनयिक संबंधों के 30 वर्ष पूरे कर रहे हैं, तो मैं अपनी सामरिक साझेदारी को आगे बढ़ाए रखने के लिए तत्पर हूं।
जो बाइडेन ने भी दी बधाई : अमेरिकी राष्ट्रपति जो बाइडेन ने येर लैपिड को इजराइल के नए प्रधानमंत्री बनने पर बधाई दी। उन्होंने ट्वीट कर लिखा कि येर लैपिड को इज़राइल के नए और वैकल्पिक प्रधानमंत्री को बधाई देता हूं। उन्होंने नफ्ताली बेनेट को धन्यवाद देते हुए कहा कि पिछले एक साल में आपकी दोस्ती मेरे लिए बहुत अहम रही। मैं यू.एस-इजरायल के अटूट साझेदारी का जश्न मनाने के लिए उत्सुक हूं। आप दोनों से जुलाई में मुलाकात होगी।
यह होगा लैपिड का पहला एजेंडा : लैपिड के अपने ऑफिस में पहले दिन तेल अवीव में किर्या सैन्य मुख्यालय में शिन बेट सुरक्षा एजेंसी के प्रमुख रोनेन बार के साथ बैठक करना होगा। यहीं उनका पहला एजेंडा है। इसके बाद पीएम लैपिड दो इजराइली नागरिकों और दो रक्षा बलों के सानिकों के अवशेषों को वापस अपने वतन लाने पर चर्चा करेंगे। इनके अवशेषों को गाजा पट्टी में हमास ने अपने कब्जे में रखा है।
कौन हैं येर लैपिड : येर लैपिड का जन्म 5 नवंबर 1963 में हुआ था। वह एक इजरायली राजनेता और पूर्व पत्रकार हैं। वे 1 जुलाई 2022 को इजरायल के 14 वें प्रधानमंत्री के रूप चुने गए। इससे पहले उन्होंने वैकल्पिक प्रधान के रूप में कार्य किया। 2021 से 2022 तक इज़राइल के मंत्री और विदेश मामलों के मंत्री भी रहें। लैपिड मध्यमार्गी यश अतीद के अध्यक्ष के रूप में भी कार्य करते हैं, जिन्होंने पहले 2020 से 2021 तक विपक्ष के नेता के रूप में और 2013 से 2014 तक वित्त मंत्री के रूप में कार्य किया था।
न्यूज एंकर हुआ करते थे लैपिड : 2012 में राजनीति में आने से पहले, लैपिड एक लेखक, टीवी प्रजेन्टर और न्यूज़ एंकर थे। 1988 में मात्र 25 साल की उम्र में, लैपिड को येदिओथ तेल अवीव का संपादक नियुक्त किया गया। जो येदिओथ अह्रोनोथ समूह द्वारा प्रकाशित एक स्थानीय समाचार पत्र था। 1991 में, उन्होंने एक राष्ट्रव्यापी समाचार पत्र के सप्ताहांत के पूरक में एक साप्ताहिक कॉलम लिखना शुरू किया – पहले मारीव के लिए, और बाद में इसके प्रतियोगी, येडिओथ अह्रोनोथ के लिए लिखा। उनके कॉलम का नाम, “व्हेयर इज द मनी?”, दशकों बाद उनका राजनीतिक नारा बन गया।
लैपिड का राजनीतिक सफर : लैपिड ने मध्यमार्गी यश एटिड पार्टी की स्थापना की। उनकी पार्टी 2013 में अपने पहले विधायी चुनाव में 19 सीटें जीतकर केसेट में दूसरी सबसे बड़ी पार्टी बन गई। 2013 से 2014 तक, लिकुड के साथ अपने गठबंधन समझौते के बाद, लैपिड ने प्रधान मंत्री बेंजामिन नेतन्याहू के सरकार में वित्त मंत्री के रूप में कार्य किया। 2013 में, लैपिड का नाम जेरूसलम पोस्ट द्वारा “दुनिया में सबसे प्रभावशाली यहूदियों” की सूची में पहले स्थान पर रहा। उन्हें 2013 में अग्रणी विदेश नीति वैश्विक विचारकों में से एक के रूप में भी बताया गया और टाइम पत्रिका में “दुनिया में 100 सबसे प्रभावशाली लोगों” में से एक के रूप में स्थान दिया गया। वह नेसेट विदेश मामलों और रक्षा समिति, और खुफिया और सुरक्षा सेवाओं पर उप-समिति में कार्यरत रहे।

About indianz xpress

Pin It on Pinterest

Share This