Tuesday , October 27 2020 6:41 PM
Home / Off- Beat / एक सितारे को कैसे निगलता चला गया Black Hole, टेलिस्कोप में कैद अद्भुत खगोलीय घटना

एक सितारे को कैसे निगलता चला गया Black Hole, टेलिस्कोप में कैद अद्भुत खगोलीय घटना


धरती से अंतरिक्ष पर गड़ीं नजरें कभी अद्भुत घटनाएं कैद कर लेती हैं। ऐसा ही कुछ टेलिस्कोप्स को दिखा। इन टेलिस्कोप्स ने एक मरते हुए सितारे से निकलती हुई रोशनी देखी। ये सितारा एक विशाल ब्लैक होल (Supermassive Black Hole, SBH) में समा रहा था। यह घटना धरती से 21.5 प्रकाशवर्ष दूर हुई है जिसे Tidal Disruption Event कहा जाता है। इसमें सितारा ब्लैक होल के गुरुत्वाकर्षण (Gravity) से खिंचते चले जाते हैं।
…ओर सितारे को निगल गया ब्लैक होल
नई स्टडी के लीड रिसर्चर मैट निकोल ने बताया, ‘ब्लैक होल का किसी सितारे को खाना साइंस-फिक्शन जैसा लगता है लेकिन असल में एक TDE में ऐसा ही होता है।’ रिसर्चर्स ने इस इवेंट को यूरोपियन सदर्न ऑब्जर्वेटरी के वेरी लार्ज टेलिस्कोप (VLT) और न्यू टेक्नॉलजी टेलिस्कोप समते कई टेलिस्कोप्स की मदद से देखा। स्टडी में साथी रिसर्चर थॉमस वेवर्स ने कहा कि गैलेक्सी के केंद्र में घूम रहा सितारा ब्लैक होल के करीब पहुंचने के साथ उसकी ग्रैविटी से खिंचने लगता है और पतले हिस्सों में बंटने लगता है। इसे Spaghettification कहते हैं।
पहली बार देखा गया नजारा
अब से पहले इस इवेंट को देखना मुश्किल था क्योंकि जब कोई सितारा ब्लैक होले में समाता है तो उससे धूल जैसे मटीरियल निकलते हैं। इससे हम तक उसकी रोशनी पहुंच नहीं पाती। हालांकि, नई स्टडी सितारे के टुकड़े-टुकड़े होने के फौरन बाद की जा सकी। AT 2019qiz नाम का इवेंट 6 महीने तक स्टडी किया गया। पहले सितारे से निकलने वाली रोशनी खूब तेज थी और फिर धीरे-धीरे हल्की होने लगी। ऑब्जर्वेशन अल्ट्रावॉइलट,ऑप्टिकल, एक्स-रे और रेडियो वेवलेंथ में किए गए। रिसर्चर्स ने कहा कि इस इवेंट को व्यापक तरीके से देखने पर पता चला कि मरते-मरते कैसे सितारे से मटीरियल और रोशनी निकलती है।
बेहद अहम है यह खोज
टीम का आकलन है कि इस सितारे का द्रव्यमान (mass) हमारे सूरज जितना रहा होगा। ब्लैक होल की ग्रैविटी के सामने इसके टिकने का कोई चांस नहीं होता क्योंकि उसका द्रव्यमान हमारे सूरज से 10 लाख गुना ज्यादा होता है। AT 2019qiz से यह भी समझा जा सकता है कि SBH के आसपास कैसा माहौल होता है। इस रिसर्च पर आधारित स्टडी रॉयल ऐस्ट्रोनॉमिकल सोसायटी में छापी गई।

About indianz xpress

Pin It on Pinterest

Share This