Friday , July 19 2024 5:40 AM
Home / News / उत्तर कोरिया पर अमरीकी हमले को लेकर बोले शी जिनपिंग, कहा – मसले का हल शांतिपूर्ण तरीके से करें ट्रंप

उत्तर कोरिया पर अमरीकी हमले को लेकर बोले शी जिनपिंग, कहा – मसले का हल शांतिपूर्ण तरीके से करें ट्रंप


वाशिंगटन। अमरीकी विमानवाहक पोत कॉर्ल विंसन के साथ अमरीकी नौसेना के स्ट्राइक ग्रुप के कोरियाई प्रायद्वीप की तरफ बढऩे की खबरों के बीच चीन ने बुधवार को कोरियाई प्रायद्वीप में तनाव को शांतिपूर्ण तरीके से हल करने की अपील की है। चीन के विदेश मंत्रालय ने एक बयान में कहा कि चीन के राष्ट्रपति शी जिनपिंग ने अमेरिका के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप के साथ बुधवार को टेलीफोन पर उत्तर कोरिया तथा सीरिया के हालात पर चर्चा की।
बयान के मुताबिक, शी ने दोहराया कि चीन परमाणु हथियार मुक्त कोरियाई प्रायद्वीप चाहता है और शांति तथा स्थिरता का आह्वान करता है। साथ ही कहा कि चीन इस मुद्दे को शांतिपूर्ण तरीकों से निबटाने की वकालत करता है और कोरियाई प्रायद्वीप मुद्दे पर अमरीका के साथ बातचीत तथा समन्वय बरकरार रखने को इच्छुक है।
सीएनएन की रिपोर्ट के मुताबिक, ट्रंप ने बार-बार चीन से कहा है कि वह अपने बिगड़ैल पड़ोसी पर लगाम लगाने के लिए अधिक से अधिक कदम उठाए। गौरतलब है कि उत्तर कोरिया द्वारा पिछले सप्ताह एक मिसाइल प्रक्षेपण के बाद अमरीका ने अपने विमानवाहक पोत यूएसएस कार्ल विंसन को कोरियाई प्रायद्वीप की तरफ रवाना कर दिया, जिसपर उत्तर कोरिया ने अमरीका को युद्ध की धमकी दी है।
तो वहीं विषलेशकों ने उत्तर कोरिया पर शी तथा ट्रंप के बीच बातचीत को चीन-अमेरिका संबंधों का नया दौर करार दिया है। सिंगापुर के इंटरनेशनल इंस्टीट्यूट फॉर स्ट्रेटेजिक स्टडीज में वरिष्ठ फेलो अलेक्जेंडर नील ने सीएनएन से कहा कि मुझे लगता है कि इस बिंदु पर अमरीका और चीन का साझा हित अहम हो रहा है।
उनका कहना कि चीन को उत्तर कोरिया के साथ व्यापार को कम करने के लिए तैयार रहना पड़ सकता है। वे किम जोंग-उन पर लगाम लगाना चाहते हैं। ट्रंप द्वारा उत्तर कोरिया को लेकर अपना गुस्सा ट्विटर पर जाहिर करने के बाद दोनों देशों के बीच टेलीफोन पर बातचीत सामने आई है।
उन्होंने ट्वीट किया कि चीन के राष्ट्रपति से मैं कहना चाहता हूं कि अगर चीन उत्तर कोरिया समस्या को सुलझाता है, तो अमेरिका के साथ उसके संबंध बेहतर होंगे। इसके बाद दूसरे ट्वीट में कहा कि उत्तर कोरिया परेशानी को न्योता दे रहा है। अगर चीन मदद करने का फैसला करता है, तो बेहतर होगा। अगर नहीं, तो हम उसके बिना ही समस्या से निपट लेंगे! अमरीका।
गौरतलब है कि दोनों नेताओं ने फ्लोरिडा के मार-ए-लागो में पिछले सप्ताह पहली मुलाकात की थी। रिपोर्ट के मुताबिक, ट्रंप-शी की बैठक के मद्देनजर अमेरिका के विदेश मंत्री रेक्स टिलरसन ने कहा था कि चीन समझ चुका है कि उत्तर कोरिया का परमाणु कार्यक्रम कितना भयावह रूप ले चुका है और इस बात से सहमत है कि इसे रोकने के लिए कार्रवाई करनी चाहिए।