Saturday , April 20 2024 6:23 PM
Home / Lifestyle / मीठी मीठी बातों में छुपा जहर, कहीं दोस्त की शक्ल में सांप तो नहीं पाल रहे आप? इन 8 संकेतों से जाने अंतर

मीठी मीठी बातों में छुपा जहर, कहीं दोस्त की शक्ल में सांप तो नहीं पाल रहे आप? इन 8 संकेतों से जाने अंतर


हम सभी चाहते हैं कि हमारी लाइफ में सच्चे दोस्त हों, जो हमारी खुशी और गम में हमेशा साथ दें। लेकिन कभी-कभी हमारे आसपास ऐसे लोग भी होते हैं जो दोस्ती का मुखौटा पहनकर हमारे करीब आते हैं, लेकिन उनकी असलियत कुछ और होती है। इन्हें ही हम ‘फ्रेनेमी’ कहते हैं। अपनी लाइफ के ‘फ्रेनेमी’ को पहचानना हमारे लिए बहुत ज़रूरी है ताकि हम खुद को उनसे बचा सकें।
हम सभी की लाइफ में एक या दो ऐसे दोस्त जरूर होते हैं, जिन्हें हम अपना बीएफएफ यानी कि बेस्ट फ्रेंड कहते हैं। लेकिन क्या ये दोस्त सच में आपके सगे हैं या दिखावा कर रहे हैं! ऐसे लोगों को अंग्रेजी में एक शब्द दिया गया है ‘फ्रेनेमी’।
‘फ्रेनेमी’ को आसान शब्दों में समझा जाए तो इसका मतलब होगा दोस्त की शक्ल में दुश्मन। अपका कोई ऐसा खास फ्रेंड जो सामने तो दोस्ती का ढोंग करता है लेकिन पीठ पीछे आपके बारे में उलटा कहने के साथ-साथ बुराई भी करता है। ऐसे लोगों को आप दोगले व्यक्तित्व वाला भी कह सकते हैं। लेकिन आप नीचे दिए गए इन 7 संकेतों से पहचान सकते हैं कि कौन आपका फ्रेंड है और कौन फ्रेनेमी। (​सभी फोटो: फ्रीपिक)
पीठ पीछे गोसिप्स – ये लोग आपके सामने तो मीठा बोलते हैं, लेकिन आपकी पीठ पीछे आपके सारे राज और जरूरी बातों को उजागर कर देते हैं। आपके न होने पर ऐसे लोग आपके बारे में गलत अफवाह फैलाकर इमेज को खराब करने की कोशिश भी करते हैं।
फ्रेनेमी को कैसे पहचाने? – फ्रेनेमी आपका वो दुश्मन होता है, जो खुद को आपका बेस्ट फ्रेंड कहता है। ऐसे लोग सामने से बहुत ही स्पोर्टिव और हर मुश्किल में साथ देने वाला बनने का दिखावा करते हैं लेकिन अंदर ही अंदर इनके दिल में आपके लिए जलन और बदले की भावना होती है। ऐसी स्थिति में ये लोग अपने दोगलेपन को चेहरे पर नहीं आने देते है और दोस्ती का ढोंग करते हैं।
जलन की भावना – अगर आपको कोई दोस्त आपकी तरक्की से जलता है या खुश होने का दिखावा करता है तो वो आपको फ्रेनेमी कहलाएगा। आपकी सफलता ऐसे दोस्तों को असुरक्षित महसूस कराती है। साथ ही आपकी सक्सेस को देखकर ये लोग अचानक से दूर हो जाते हैं और आपकी खुशी में शामिल होने में कोई दिलचस्पी नहीं दिखाते।
आगे निकलने की भावना – ऐसे छल करने वाले दोस्त बहुत ही ज्यादा कॉम्पिटेटिव होते हैं। चाहे वो आपकी पर्सनल खुशी हो या करियर की कोई अचिवमेंट, ये हमेशा आपकी उपलब्धियों की नकल करने की कोशिश करते हैं। साथ ही जब भी आप उनसे मिलते हैं, तो ये अपनी बातों को बढ़ा-चढ़ाकर दिखाने की कोशिश करते हैं।
बात का बतंगड़ बनाने की आदत – दोस्तों में अक्सर बहस होती रहती हैं, जो बिनी किसी सॉरी के खत्म भी हो जाती है। लेकिन फ्रेनेमी को व्यवहार बहुत ही अग्रेसिव होता है। ऐसे लोग बात को इग्नोर या खत्म करने की जगह और बड़ा देते हैं। और कुछ न सही तो पूरानी लड़ाइयों को ही किसी बात के बीच में लाकर बात का बतंगड़ बना देते हैं।
झूठी और गलत सलाह देना – ऐसे लोग कभी भी सीधे तौर पर आपकी आलोचना नहीं करते। ये अपने नेगेटिव कमेंट्स को “अच्छी और सच्ची सलाह” के रूप में आपके सामने रखते हैं। बातों-बातों में आपकी कमियों को उजागर करते हैं और उन्हें आपकी फेलियर का कारण बताने लगते हैं। जैसे अगर आप कोई नया काम स्टार्ट करने की सोच रहे हैं तो वो यह कहकर आपको डिमोटिवेट करते हैं कि “ये तो बहुत मुश्किल है, तुम इसे पूरा नहीं कर पाओगे।”
हर काम में डिमोटिवेट करना – ये लोग आपको सक्सेस मिलने वाले मौकों से दूर रखने के लिए हमेशा तैयार रहते हैं। वो खुद को रियलिस्टिक बताते हुए किसी भी नए मौके के नकारात्मक पहलुओं को गिनना शुरू कर देते हैं। ऐसे लोग आपको सफलता के लिए रिस्क लेने से रोकते हैं।
हर बात पर होता है ताना – फ्रेनेमी आपकी तारीफ करने का नाटक तो करते हैं, लेकिन उनकी तारीफों में हमेशा एक तंज छिपा होता है। वे आपकी किसी अचिवमेंट की सराहना करते समय, यह भी कह देते हैं कि “काश तुम थोड़ा और मेहनत करते।” या, “तुम्हें तो सिर्फ किस्मत का सहारा मिला है।” इस तरह की तारीफें आपके आत्मविश्वास को कम करने का ही काम करती हैं।